179 परमेश्वर के देहधारण से ही इंसान उसका विश्वासपात्र बन सकता है

1

जब परमेश्वर बनाता है खुद को विनम्र

और देहधारण कर रहता है इंसानों के बीच,

तभी इंसां बन सकते हैं उसके हमराज़,

और हो सकती है दोस्ती उनके बीच।

जब परमेश्वर बनाता है खुद को विनम्र

और देहधारण कर रहता है इंसानों के बीच,

तभी इंसां बन सकते हैं उसके हमराज़,

और हो सकती है दोस्ती उनके बीच।

परमेश्वर है असाधारण, आत्मा का और समझ से परे,

इंसां उसका हमराज़ बने भी तो कैसे बने?

परमेश्वर के देहधारण से ही इंसां उसका विश्वासपात्र बन सकता है।

परमेश्वर के देहधारण से ही इंसां उसका विश्वासपात्र बन सकता है।

जब ले लेता है वो उसी मानव देह का रूप, केवल तब ही,

इंसां समझ पाता है उसकी मर्ज़ी, और परमेश्वर को होती है उसकी प्राप्ति।

2

देह में ही परमेश्वर बोलता और कार्य करता है,

इंसां के क्लेश, गम और खुशियों को साझा करता है,

उनके संसार में जीते हुए, उनकी रक्षा करता और मार्ग दिखाता है,

और वे उसकी कृपा और मुक्ति पा सकें इसलिए उन्हें शुद्ध बनाता है।

परमेश्वर है असाधारण, आत्मा का और समझ से परे,

इंसां उसका हमराज़ बने भी तो कैसे बने?

परमेश्वर के देहधारण से ही इंसां उसका विश्वासपात्र बन सकता है।

3

इसके द्वारा ही इंसां सच में समझ पाता है परमेश्वर की इच्छा,

और बन जाता है उसका हमराज़; यही तो है व्यावहारिकता।

अगर परमेश्वर हो अदृश्य और हो दूर इंसां की पहुँच से,

तो इंसां परमेश्वर का हमराज़ बने कैसे?

ये सिद्धांत बेमतलब नहीं तो क्या है?

परमेश्वर के देहधारण से ही इंसां उसका विश्वासपात्र बन सकता है।

परमेश्वर के देहधारण से ही इंसां उसका विश्वासपात्र बन सकता है।

परमेश्वर के देहधारण से ही इंसां उसका विश्वासपात्र बन सकता है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'जो परमेश्वर को और उसके कार्य को जानते हैं, केवल वे ही परमेश्वर को संतुष्ट कर सकते हैं' से रूपांतरित

पिछला: 178 इन्सान को बचाने का सबसे अहम काम करता है देहधारी परमेश्वर

अगला: 180 व्यावहारिक परमेश्वर इंसानों के बीच प्रकट होता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें