178 इन्सान को बचाने का सबसे अहम काम करता है देहधारी परमेश्वर

1

परमेश्वर के कामों में महानतम है,

वो काम जो करता है देहधारी परमेश्वर।

परमेश्वर के कामों में गहनतम है,

वो काम जो करता है देहधारी परमेश्वर।

परमेश्वर के काम के तीन चरणों में,

सबसे अधिक महत्व है, इन दो चरणों का,

जिन्हें करता है देहधारी परमेश्वर।

देहधारी परमेश्वर के कामों में बाधा है मनुष्य की भ्रष्टता।

परिवेश है बैरी, क्षमता बहुत कमज़ोर है मनुष्य की।

अंत के दिनों का काम ख़ासकर कठिन है तो भी,

काम के अंत में मिलेंगे उचित नतीजे ही।

सबसे अहम हिस्सा परमेश्वर के काम का देह में ही किया जाता है।

परमेश्वर के द्वारा उद्धार हर इन्सान का देह में ही किया जाना है।

इन्सान भले माने, उससे सम्बन्ध नहीं देहधारी परमेश्वर का,

लेकिन पूरी मानवता की नियति और अस्तित्व से संबंध है इस देह का,

क्योंकि वही करता है काम सबसे अहम, सबसे अहम।

2

परमेश्वर का काम पायेगा सबसे अच्छे नतीजे।

दोष बिना, परमेश्वर का काम हासिल करेगा इसे।

यह है प्रभाव देह के काम का, यकीन दिलाये ये आत्मा के काम से ज़्यादा।

तीन चरणों के काम का अंत देहधारी परमेश्वर करेगा।

तीन चरणों के काम का अंत देहधारी परमेश्वर को ही करना होगा।

सबसे अहम हिस्सा परमेश्वर के काम का देह में किया जाता है।

परमेश्वर के द्वारा उद्धार हर इन्सान का देह में ही किया जाना है।

इन्सान भले माने, उससे सम्बन्ध नहीं देहधारी परमेश्वर का,

लेकिन पूरी मानवता की नियति और अस्तित्व से संबंध है इस देह का,

क्योंकि वही करता है काम सबसे अहम, सबसे अहम।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की अधिक आवश्यकता है' से रूपांतरित

पिछला: 177 देहधारी परमेश्वर की आवश्यकता

अगला: 179 परमेश्वर के देहधारण से ही इंसान उसका विश्वासपात्र बन सकता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें