सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

वचन देह में प्रकट होता है

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

अध्याय 113

मेरे द्वारा किए गए हर कार्य के भीतर मेरी बुद्धि समाविष्ट होती है, किन्तु मनुष्य इसकी बिल्कुल भी थाह नहीं पा सकता है; मनुष्य केवल मेरे कार्यकलापों और मेरे वचनों को देख सकता है, किन्तु मेरी महिमा, या मेरे व्यक्तित्व के प्रकटन को नहीं देख सकता है, क्योंकि मनुष्य में ये क्षमता है ही नहीं। इसलिए, मनुष्य के नहीं बदलने की परिस्थितियों में, मेरे ज्येष्ठ पुत्र और मैं सिय्योन लौट जायेंगे और रूप बदल लेंगे, ताकि मनुष्य मेरी बुद्धि और मेरी सर्वशक्तिमत्ता को देख सके। मेरी बुद्धि और मेरी सर्वशक्तिमत्ता जो मनुष्य अब देखता है वे मेरी महिमा का केवल एक छोटा सा अंश हैं, और उल्लेख करने योग्य बिल्कुल भी नहीं हैं। वहाँ से दिखायी गई, मेरी बुद्धि और मेरी महिमा अनंत और असीमित रूप से गहन हैं, और मनुष्य के मन के पास इसे विचारने या समझने काबस कोई तरीका नहीं है। राज्य का निर्माण करना मेरे ज्येष्ठ पुत्रों का कर्तव्य है, और यह मेरा भी कार्य है, अर्थात् यह मेरी प्रबंधन योजना की एक मद है। राज्य का निर्माण कलीसिया के निर्माण के समान नहीं है; क्योंकि मेरे ज्येष्ठ पुत्र और मैं मेरे व्यक्तित्व और राज्य हैं, तो जब मैं और मेरे ज्येष्ठ पुत्र सिय्योन पर्वत में प्रवेश करेंगे, तो राज्य का निर्माण प्राप्त किया जाएगा। दूसरे तरीके से कहें तो, राज्य का निर्माण कार्य का एक कदम है: आध्यात्मिक दुनिया में प्रवेश करने का कदम। (हालाँकि, दुनिया बनाने के बाद से मैंने जो कुछ भी किया है, वह इस कदम के वास्ते किया गया है। यद्यपि मैं कहता हूँ कि यह एक कदम है, फिर भी वास्तविकता में ऐसा बिल्कुल नहीं है।) इस प्रकार मैं इस कदम की सेवा करवाने के लिए सभी सेवा करने वालों का उपयोग करता हूँ। और परिणामस्वरूप अंत के दिनों के दौरान बड़ी संख्या में लोग पीछे हट जाएँगे; वे सभी ज्येष्ठ पुत्रों को सेवा प्रदान करते हैं। जो कोई भी इन सेवा करने वालों के प्रति दयालुता दिखाता है, वह मेरे शाप से मर जाएगा। (सभी सेवा करने वाले बड़े लाल अजगर की साज़िशों का प्रतिनिधित्व करते हैं, और सभी शैतान के अनुचर हैं, इसलिए जो इन लोगों के प्रति दयालुता दिखाते हैं वे बड़े लाल अजगर के सह-अपराधी हैं और वे शैतान से सम्बन्धित हैं।) मैं जिसे प्रेम करता हूँ उसे पूरा प्रेम करता हूँ, और अपने शाप और दहन के सभी लक्ष्यों से घृणा करता हूँ। क्या तुम लोग भी ऐसा करने में सक्षम हो? जो कोई भी मेरे विरुद्ध खड़ा होता है, मैं उसे निश्चित रूप से माफ़ नहीं करूँगा, न ही जाने दूँगा! प्रत्येक कार्य को करते समय, मैं अपनी सेवा करवाने के लिए बड़ी संख्या में सेवा करने वालों की व्यवस्था करता हूँ। इस प्रकार यह देखा जा सकता है कि पूरे इतिहास में, इसी कदम के लिए सभी भविष्यद्वक्ताओं और प्रेरितों ने सेवा प्रदान की है, और वे मेरे ह्र्द्यानुसार नहीं हैं, मुझसे नहीं हैं। (यद्यपि उनमें से अधिकांश मेरे प्रति वफ़ादार हैं, फिर भी मुझसे कोई संबंधित नहीं है। इसलिए, उनका दौड़-भाग करना मेरे लिए इस अंतिम चरण की नींव बनाना है, किन्तु यह सब उनका एक व्यर्थ प्रयास है।) इसलिए, अंत के दिनों के दौरान और भी अधिक बड़ी संख्या में पीछे हटने वाले लोग होंगे। (मैं बड़ी संख्या में इसलिए कहता हूँ क्योंकि मेरी प्रबंधन योजना समाप्ति पर पहुँच गई है, मेरे राज्य का निर्माण सफल हो गया है, और ज्येष्ठ पुत्र सिंहासन पर बैठ गए हैं।) यह सब ज्येष्ठ पुत्रों के प्रकटन के कारण है। ज्येष्ठ पुत्रों के प्रकटन के कारण, बड़ा लाल अजगर हर संभव तरीके से प्रयास करता है और क्षति पहुँचाने के सभी मार्गों का प्रयोग करता है: सभी प्रकार की दुष्ट आत्माओं को भेजता है जो मेरे लिए सेवा करने आती हैं, जिन्होंने वर्तमान अवधि में अपने असली रंग दिखाए हैं, और जिन्होंने मेरे प्रबंधन को बाधित किया है। इन्हें नग्न आँखों से नहीं देखा जा सकता है, और ये सभी आध्यात्मिक दुनिया की चीज़ें हैं। इसलिए लोग इस बात पर विश्वास नहीं करते कि बड़ी संख्या में पीछे हटने वाले लोग होंगे, फिर भी अपने कार्यों को मैं जानता हूँ, अपने प्रबंधन को मैं समझता हूँ, और मनुष्य को हस्तक्षेप न करने देने का यही कारण है। (एक दिन आएगा जब हर तरह की अधम दुष्ट आत्मा अपनी वास्तविक अस्मिता को प्रकट करेगी, और सभी मनुष्य ईमानदारी से आश्वस्त हो जाएँगे।)

मैं अपने ज्येष्ठ पुत्रों से प्रेम करता हूँ, किन्तु बड़े लाल अजगर के उन वंशज से जो मुझे बड़ी ईमानदारी से प्रेम करते हैं, मैं बिल्कुल भी प्रेम नहीं करता हूँ; वास्तव में मैं उनसे और भी अधिक घृणा करता हूँ। (ये लोग मेरे नहीं हैं, और यद्यपि वे अच्छे इरादे दर्शाते हैं, और सुखद वचनों को कहते हैं, किन्तु यह बड़े लाल अजगर का एक षड़यंत्र है, इसलिए मैं उन्हें अपनी अत्यंत गहराई तक नफ़रत करता हूँ।) यह मेरा स्वभाव है, और यह मेरी धार्मिकता की समग्रता है। मनुष्य इसकी बिल्कुल भी थाह नहीं पा सकता है। मेरी धार्मिकता की समग्रता यहाँ क्यों प्रकट की जाती है? इससे कोई मेरे पवित्र और अपमान न किए जाने योग्य स्वभाव को महसूस कर सकता है। मैं अपने ज्येष्ठ पुत्रों से प्रेम कर सकता हूँ और उन सभी से नफ़रत कर सकता हूँ जो मेरे ज्येष्ठ पुत्र नहीं हैं (यद्यपि वे निष्ठावान लोग हैं)। यह मेरा स्वभाव है। क्या तुम लोग नहीं देख सकते हो? लोगों की धारणाओं में, मैं सदैव एक करुणाशील परमेश्वर हूँ, और मुझे उन सभी से प्रेम है जो मुझसे प्रेम करते हैं; क्या यह मेरे विरुद्ध निंदा करना नहीं है? क्या मैं बैलों और घोड़ों से प्रेम कर सकता हूँ? क्या मैं शैतान को अपने ज्येष्ठ पुत्र के रूप में ले सकता हूँ और इसका आनंद उठा सकता हूँ? बकवास! मेरा कार्य मेरे ज्येष्ठ पुत्रों पर है, और मेरे ज्येष्ठ पुत्रों के अलावा, मेरे पास प्रेम करने के लिए और कुछ नहीं है। (पुत्र और लोग अतिरिक्त हैं, किन्तु वे बिल्कुल भी महत्वपूर्ण नहीं हैं।) लोग कहते हैं कि पहले, मैंने बेकार का कार्य बहुत अधिक किया, किन्तु मेरे दृष्टिकोण में यह वास्तव में सर्वाधिक मूल्यवान, सर्वाधिक सार्थक है। (यही सब कुछ है जो दो देहधारणों के दौरान किया गया था; क्योंकि मैं अपनी शक्ति को प्रकट करना चाहता हूँ, इसलिए मुझे अपना कार्य पूरा करने के लिए देह अवश्य बनना चाहिए)। मैं ऐसा क्यों कहता हूँ कि मेरा आत्मा व्यक्तिगत रूप से कार्य करने के लिए आता है, उसका कारण है क्योंकि मेरा कार्य देह में पूरा किया जाता है, अर्थात्, मेरे ज्येष्ठ पुत्र और मैं विश्राम में प्रवेश करना शुरू करते हैं। देह में शैतान के साथ युद्ध आध्यात्मिक दुनिया में शैतान के साथ युद्ध की तुलना में अधिक भयंकर होता है, और सभी मनुष्यों द्वारा देखा जा सकता है, इसलिए शैतान के वंशज भी मेरे लिए सुंदर गवाही दे सकते हैं, और छोड़ने के अनिच्छुक हैं; यह अपने आप में देह में मेरे कार्य करने का अर्थ है। यह मुख्य रूप से शैतान के वंशजों से स्वयं शैतान को अपमानित करवाने के लिए है; यह दुष्ट शैतान के लिए लायी जाने वाली सबसे शक्तिशाली शर्मिंदगी की बात है, उसे इतना शर्मिंदा महसूस करवाना है कि वह स्वयं को छिपाने के लिए कोई जगह न ढूँढ पाए, और बार-बार मेरे सामने दया की भीख माँगे। मैं जीत गया हूँ, मैंने हर चीज़ पर प्रभुत्व स्थापित कर लिया है, मैं, सिय्योन पर्वत तक पहुँचने के लिए, अपने ज्येष्ठ पुत्रों के साथ परिवार की खुशी का आनंद लेने के लिए, स्वर्ग के राज्य के महान भोज में सदैव के लिए तर हो जाने के लिए तीसरे स्वर्ग को तोड़ कर बाहर आ गया हूँ!

ज्येष्ठ पुत्रों पर, मैंने सारा मूल्य चुकाया है और समस्त ऊर्जा व्यय की है। (मनुष्य जानता ही नहीं है कि मैंने जो कुछ किया है, मैंने जो कुछ कहा है, जो मैं हर तरह की दुष्ट आत्मा की वास्तविक प्रकृति का पता लगाता हूँ, और जो मैंने हर तरह के सेवा करने वाले से छुटकारा पा लिया है, यह सब ज्येष्ठ पुत्रों के लिए है)। किन्तु बहुत कार्य के भीतर, मेरी व्यवस्था व्यवस्थित है; यह आँख बंद करके बिल्कुल नहीं की जाती है। मेरे प्रत्येक दिन के कथनों में, तुम लोगों को मेरी कार्य की पद्धतियों और चरणों को देखने में सक्षम होना चाहिए; मेरे प्रत्येक दिन के कार्यों में तुम लोगों को मामलों से निपटने में मेरी बुद्धि और मेरे सिद्धांतों को देखना चाहिए। जैसा कि मैंने कहा है, शैतान ने मेरे प्रबंधन को बाधित करने के लिए उन लोगों को भेजा है जो मेरी सेवा करते हैं; ये सेवा करने वाले लोग गेहूँ जैसी दिखाई देने वाली खरपतवार हैं, फिर भी गेहूँ ज्येष्ठ पुत्रों को नहीं, बल्कि उन सभी पुत्रों और लोगों को संदर्भित करता है जो ज्येष्ठ पुत्र नहीं हैं। गेहूँ सदैव गेहूँ रहेगा, गेहूँ जैसी दिखाई देने वाली खरपतवार सदैव खरतपतवार रहेगी; इसका अर्थ है कि शैतान के लोगों की प्रकृति कभी नहीं बदल सकती है। इसलिए, संक्षेप में, वे शैतान जैसे ही रहते हैं। गेहूँ का अर्थ है पुत्र और लोग, क्योंकि दुनिया के सृजन से पहले मैंने इन लोगों में अपनी गुणवत्ता मिला दी थी। क्योंकि मैंने पहले कहा है कि मनुष्य की प्रकृति नहीं बदलती है, गेहूँ सदैव गेहूँ रहेगा। तो फिर ज्येष्ठ पुत्र क्या हैं? ज्येष्ठ पुत्र मुझ से आते हैं, वे मेरे द्वारा सृजित नहीं किए जाते हैं, इसलिए उन्हें गेहूँ नहीं कहा जा सकता है (क्योंकि जैसे ही कोई गेहूँ का उल्लेख करता है, यह "बोने" से संबंधित हो जाता है और "बोने" का अर्थ है "सृजन करना"; सभी गेहूँ जैसी दिखाई देने वाली खरपतवार, सेवा करने वालों के रूप में कार्य करने के लिए, गुप्त रूप से शैतान द्वारा बोई जाती है)। कोई केवल यह कह सकता है कि ज्येष्ठ पुत्र मेरे व्यक्तित्व की पूर्ण और प्रचुर अभिव्यक्ति हैं, उन्हें सोने और चाँदी और बहुमूल्य रत्नों द्वारा दर्शाया जाना चाहिए; यह इस तथ्य को स्पर्श करता है कि मेरा आना चोर की तरह है, और मैं सोने और चाँदी और बहुमूल्य रत्नों को चुराने आया हूँ (क्योंकि ये सोने और चाँदी और बहुमूल्य रत्न मूल रूप से मुझसे संबंधित हैं, और मैं उन्हें वापस अपने घर ले जाना चाहता हूँ)। जब मैं और ज्येष्ठ पुत्र एक साथ सिय्योन लौटेंगे, तो ये सोने, चाँदी और बहुमूल्य रत्न मेरे द्वारा चुरा लिए जाएँगे; इस समय, शैतान की बाधाएँ और विघ्न होंगे, और इसलिए मैं सोने, चाँदी और बहुमूल्य रत्नों को ले जाऊँगा और शैतान के साथ एक निर्णायक लड़ाई शुरू करूँगा। (यह निश्चित रूप से एक कहानी नहीं है, किन्तु यह एक ऐसा मामला है जो आध्यात्मिक दुनिया में होता है, इसलिए इस बारे में लोग पूरी तरह से अस्पष्ट हैं, और वे इसे केवल एक कहानी के रूप में सुन सकते हैं। किन्तु जो मैं कह रहा हूँ उससे तुम लोगों को यह अवश्य देखना चाहिए कि मेरी छः-हजार-वर्षीय प्रबंधन क्या योजना है, और तुम लोगों को अवश्य इसे मज़ाक के रूप में बिल्कुल नहीं सुनना चाहिए, अन्यथा मेरा आत्मा सभी मनुष्यों में से चला जाएगा।) आज, यह लड़ाई पूरी तरह ख़त्म हो गई है, और मैं अपने ज्येष्ठ पुत्रों को (सोने, चाँदी और बहुमूल्य रत्नों को लाते हुए जो मुझसे संबंधित हैं) अपने साथ अपने सिय्योन पर्वत में वापस लाऊँगा। सोने, चाँदी और बहुमूल्य रत्नों की दुर्लभता की वजह से, और क्योंकि वे बहुमूल्य हैं, इसलिए शैतान उन्हें वापस छीनने के लिए हर संभव प्रयास करता है, किन्तु मैं बार-बार कहता हूँ कि जो मुझसे है वह अवश्य मेरे पास वापस आना चाहिए, जिसका अर्थ ऊपर उल्लिखित है। मेरे वचन कि ज्येष्ठ पुत्र मुझसे हैं और मुझसे संबंधित हैं शैतान के लिए एक घोषणा है, इसे कोई भी नहीं समझता है, और यह सब कुछ ऐसा मामला है जो आध्यात्मिक दुनिया में होता है। इसलिए मनुष्य की समझ में नहीं आता है कि क्यों मैं बार-बार जोर देता हूँ कि ज्येष्ठ पुत्र मुझसे संबंधित हैं; आज तुम लोगों की समझ में आ जाना चाहिए! मैंने कहा है कि मेरे कथनों में उद्देश्य और बुद्धिमत्ता है, किन्तु तुम लोग इसे केवल बाहर से ही समझते हो, और एक भी व्यक्ति इसे आत्मा में स्पष्ट रूप से नहीं देख सकता है।

मैं अधिकाधिक बोलता हूँ, और मैं जितना अधिक बोलता हूँ उतना अधिक कठोर मेरे वचन बन जाते हैं। जब यह एक निश्चित हद तक पहुँच जाएगा, तो मैं लोगों पर एक हद तक कार्य करने, लोगों को न केवल हृदय में और वचन से आश्वस्त करवाने, बल्कि उससे भी अधिक उन्हें जीवन और मृत्यु के बीच मँडराने के लिए भी, अपने वचनों का उपयोग करूँगा; यह मेरे कार्य की पद्धति है, यह मेरे कार्य का कदम है; यह इसी तरह से अवश्य होना चाहिए, केवल तभी यह शैतान को शर्मिंदा कर सकता है और ज्येष्ठ पुत्रों को पूरा कर सकता है (अंततः ज्येष्ठ पुत्रों को सिद्ध बनाने, उन्हें देह से मुक्त होने और आध्यात्मिक दुनिया में प्रवेश करने की अनुमति देने के लिए मेरे वचनों का उपयोग करते हुए)। मनुष्य को मेरे कथनों की पद्धति, मेरे कथनों का स्वर समझ में नहीं आता है। मेरी व्याख्या से तुम सभी लोगों को कुछ परिज्ञान मिलना चाहिए, और तुम लोगों के द्वारा अवश्य पूरा किए जाने वाले कार्य को पूरा करने के लिए तुम सभी को मेरे कथनों का अनुसरण करना चाहिए। यही वह है जो मैंने तुम लोगों को सौंपा है। तुम लोगों को इस बारे में, न केवल बाहरी दुनिया से, बल्कि इससे अधिक महत्वपूर्ण रूप से आध्यात्मिक दुनिया से, जागरूक अवश्य होना चाहिए।

पिछला:अध्याय 112

अगला:अध्याय 114