218 अंत तक अनुसरण करने के लिये आत्मा के कार्य का पालन करो

1

पवित्र आत्मा का कार्य दिन ब दिन बदलता है,

उच्च प्रकटीकरण के साथ कदम दर कदम ऊपर चढ़ता है।

ऐसे ही इंसान को पूर्ण करने के लिए परमेश्वर करता है काम।

इंसान अगर चल पाता नहीं इस गति से, तो छूट सकता है वो पीछे।

एक आज्ञाकारी हृदय के बिना, अंत तक अनुसरण कर सकता नहीं इंसान।

2

पुराना युग गुज़र गया है, आया है एक नया युग।

नए युग में, नया कार्य करना है ज़रूरी।

अंतिम युग में जब परमेश्वर करता है इंसान को पूर्ण

परमेश्वर पहले से ज़्यादा तेज़ी से करेगा नया काम।

इसलिए, अपने हृदय में आज्ञाकारिता के बिना,

परमेश्वर के पदचिह्नों का अनुसरण करना इंसान के लिए होगा मुश्किल।

3

परमेश्वर का कार्य बदल नहीं सकता, करता नहीं नियमों का पालन।

बल्कि, होता है उसका कार्य हमेशा ज़्यादा नया, ज़्यादा ऊँचा।

हर एक कदम के साथ होता है ज़्यादा व्यावहारिक,

इंसान की वास्तविक ज़रूरतों के और ज़्यादा अनुरूप।

जब इंसान इस प्रकार के काम का करता है अनुभव,

सिर्फ़ तब बदलता है उसका स्वभाव।

4

जीवन के बारे में इंसान का ज्ञान है बढ़ता,

इसलिए परमेश्वर अपना काम करता है और ऊंचा।

इसी तरह परमेश्वर बनाता है इंसान को पूर्ण और अपने उपयोग के लायक।

परमेश्वर का काम करता है युद्ध,

इंसान की अवधारणाओं को करता है सही,

ले जाता है उन्हें परमेश्वर का काम

अधिक ऊंची अधिक वास्तविक स्थिति तक,

जो है परमेश्वर पर विश्वास करने का उच्चतम आयाम

ताकि अंत में परमेश्वर की इच्छा हो सके पूरी।

अवज्ञाकारी होना है जिनकी प्रकृति, इच्छा से करते हैं विरोध,

वे छोड़ दिए जाएंगे पीछे, जब परमेश्वर का कार्य बढ़ेगा तेज़ी से।

जिनके हृदय में है आज्ञाकारिता, जो रहते हैं विनम्र,

पहुंच पाएंगे वे अंत तक, रास्ते के अंत तक।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'जो सच्चे हृदय से परमेश्वर की आज्ञा का पालन करते हैं वे निश्चित रूप से परमेश्वर द्वारा हासिल किए जाएँगे' से रूपांतरित

पिछला: 217 पवित्र आत्मा के नए काम का अनुसरण करो और परमेश्वर की स्वीकृति प्राप्त करो

अगला: 219 तुम जो सयाने हो, जल्दी से जाग उठो

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें