448 सामान्य स्थिति जीवन में तीव्र विकास की ओर ले जाती है

इंसान की स्थिति हर चरण में, इस बात से जुड़ी है,

वो सत्य में कितना प्रवेश करेगा और कितना पाएगा।

1

कुछ गलत स्थिति में हैं; भले ही वो खोजें, सुनें, पढ़ें, और संवाद करें,

पर वो सामान्य स्थिति वालों जितना न पाएँगे।

अगर इंसान सदा अशुद्ध रहे,

भ्रष्ट प्रकृति दिखाए, इंसानी धारणाएँ रखे,

तो वो पूरी तरह भ्रमित होगा।

इससे सत्य में उसका प्रवेश प्रभावित होगा।

साफ़-मन ही सत्य को समझ पाए।

निर्मल-हृदय ही ईश्वर को देख पाए।

ख़ुद को ख़ाली करो और सत्य पाओ।

सामान्य स्थिति में जीवन तेज़ी से विकसित होता।

इंसान सत्य को समझकर उसमें प्रवेश कर सके,

ईश-वचनों से उपयोगी चीज़ें जान सके,

दूसरों को पोषण दे सके, सेवा कर सके।

सामान्य स्थिति में जीवन तेज़ी से विकसित होता।

2

अगर दिल अशांत हो तो इंसान सत्य को न समझ पाए।

पर उसे अपनी स्थिति को देखने, अपनी समस्याओं,

अपनी प्रकृति को जानने के लिए, इसे समझना चाहिए।

सामान्य स्थिति में जीवन तेज़ी से विकसित होता।

इंसान सत्य को समझकर उसमें प्रवेश कर सके,

ईश-वचनों से उपयोगी चीज़ें जान सके,

दूसरों को पोषण दे सके, सेवा कर सके।

सामान्य स्थिति में जीवन तेज़ी से विकसित होता।

3

अगर इंसान की स्थिति सही और सामान्य हो, तो उसका कद सच्चा होगा।

समस्याएँ आने पर वो अटल रहेगा, शिकायत न करेगा।

तुम हर चरण में जिस तरह, जिस स्थिति में खोजते हो,

हैं ऐसी चीज़ें जिन्हें तुम अनदेखा न कर सको।

वरना मुसीबत में पड़ जाओगे।

सामान्य स्थिति में जीवन तेज़ी से विकसित होता।

इंसान सत्य को समझकर उसमें प्रवेश कर सके,

ईश-वचनों से उपयोगी चीज़ें जान सके,

दूसरों को पोषण दे सके, सेवा कर सके।

सामान्य स्थिति में जीवन तेज़ी से विकसित होता।

सामान्य स्थिति में तुम सही मार्ग पर चलोगे,

सही काम करोगे और तुरंत ईश-वचनों में प्रवेश करोगे।

इसी तरह से तुम्हारा जीवन विकसित हो सके।

इसी तरह से तुम्हारा जीवन विकसित हो सके।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'अपनी नकारात्मक स्थिति को हल करने के लिए आपको सत्य का उपयोग करना चाहिए' से रूपांतरित

पिछला: 447 एक सामान्य स्थिति क्या होती है?

अगला: 449 पवित्रात्मा के काम का प्रकटीकरण

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें