250 परमेश्वर के कार्य की थाह कोई नहीं पा सकता

ईश्वर और इंसान एक समान नहीं।

ईश-कार्य और सार हैं अथाह,

समझने में मुश्किल।

गर ईश्वर अपना काम ख़ुद न करे,

इंसान से अपने वचन न कहे,

तो उसकी इच्छा कोई न समझ पाये।

जिन्होंने उसे दे दिया अपना सारा जीवन,

वे भी उसकी मंज़ूरी पा ना सकें।

इंसान ईश-कार्य को सीमांकित न करे।

ईश्वर की नज़रों में वो चींटी से ज़्यादा नहीं,

कैसे वो समझ सके काम ईश्वर का?

इंसान न बांध सके ईश-कार्य की सीमा।

ईश्वर की नज़रों में वो चींटी से ज़्यादा नहीं,

कैसे वो समझ सके काम ईश्वर का?


ईश-कार्य बिन, बेकार हैं

इंसान के अच्छे काम भी,

क्योंकि ईश्वर की सोच इंसानी सोच से ऊपर है।

ईश-बुद्धि की थाह न पा सके कोई।

इसलिये ईश्वर कहे, जो सोचें

कि वे जानें पूरी तरह ईश्वर

और उसके काम को,

हैं बेकार, अज्ञानी और घमंडी।

शैतान ने भ्रष्ट किया इंसान को,

इंसानी प्रकृति ईश-विरोधी है।

इंसान बराबर नहीं ईश्वर के,

उसके काम में इंसान सलाह न दे सके।

इंसान ईश-कार्य को सीमांकित न करे।

ईश्वर की नज़रों में वो चींटी से ज़्यादा नहीं,

कैसे वो समझ सके काम ईश्वर का?

इंसान न बांध सके ईश-कार्य की सीमा।

ईश्वर की नज़रों में वो चींटी से ज़्यादा नहीं,

कैसे वो समझ सके काम ईश्वर का?


इंसान की अगुआई ईश्वर का काम है।

इंसान को चाहिए वो आज्ञा माने, राय न रखे,

वो तो बस धूल है।

चूँकि हम करें कोशिश ईश्वर को खोजने की

तो अपनी धारणा उसके काम पर न थोपें हम

कि वो उन पर सोचे,

न अपनी भ्रष्ट प्रकृति से ईश-कार्य का विरोध करें।

वर्ना क्या हम नहीं बनेंगे मसीह-विरोधी?

क्या कर सकेंगे दावा ईश्वर में आस्था का?

इंसान ईश-कार्य को सीमांकित न करे।

ईश्वर की नज़रों में वो चींटी से ज़्यादा नहीं,

कैसे वो समझ सके काम ईश्वर का?

इंसान न बांध सके ईश-कार्य की सीमा।

ईश्वर की नज़रों में वो चींटी से ज़्यादा नहीं,

कैसे वो समझ सके काम ईश्वर का?

चूँकि हमें है विश्वास ईश्वर में,

हम उसे संतुष्ट करना, देखना चाहते हैं,

हमें खोजना चाहिए मार्ग सत्य का,

ईश्वर के अनुरूप होने का तरीका,

और नहीं करना चाहिए विरोध उसका,

इससे कुछ भला नहीं हो सकता।

इंसान ईश-कार्य को सीमांकित न करे।

ईश्वर की नज़रों में वो चींटी से ज़्यादा नहीं,

कैसे वो समझ सके काम ईश्वर का?

इंसान न बांध सके ईश-कार्य की सीमा।

ईश्वर की नज़रों में वो चींटी से ज़्यादा नहीं,

कैसे वो समझ सके काम ईश्वर का?

'वचन देह में प्रकट होता है' से रूपांतरित

पिछला: 93 राज्य के युग में, वचन सब पूर्ण करते हैं

अगला: 95 "वचन देह में प्रकट होता है" के असल मायने

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें