423 बिना सच्ची प्रार्थना के, सच्ची सेवा नहीं होती

I

प्रार्थना कोई संस्कार नहीं है, कई मायने हैं इसके।

लोगों की दुआओं में देखा जा सकता है

ईश्वर को जिसकी वे सेवा करते हैं।

यदि तुम प्रार्थना को संस्कार मानते हो,

तो ईश्वर की सेवा तुम ठीक से नहीं करोगे।

बिन प्रार्थना, तुम काम नहीं कर सकते।

लाती है ये सेवा और काम।

यदि तुम परमेश्वर की सेवा करते हो,

पर कभी तुम गंभीर या समर्पित

प्रार्थना के प्रति नहीं हुये,

तुम इस तरह सेवा करने में होगे असफल।


II

कह सकते हैं कि यदि तुम्हारी प्रार्थना नहीं है सच्ची या निष्कपट,

तो परमेश्वर तुम्हें नहीं गिनेगा, अनदेखा करेगा।

पवित्र आत्मा तुम पर काम नहीं करेगा।

यदि तुम प्रार्थना को संस्कार मानते हो,

तो ईश्वर की सेवा तुम ठीक से नही करोगे।

बिन प्रार्थना, तुम काम नहीं कर सकते।

लाती है ये सेवा और काम।

यदि तुम परमेश्वर की सेवा करते हो,

पर कभी तुम गंभीर या समर्पित

प्रार्थना के प्रति नहीं हुये,

तुम इस तरह सेवा करने में होगे असफल।


III

गर तुम अक्सर परमेश्वर से प्रार्थना करते हो,

ये साबित करता है कि तुम उसको गंभीरता से लेते हो।

गर तुम खुद ही काम करो और प्रार्थना नहीं करते हो,

और उसके पीठ के पीछे ऐसा-वैसा करते हो।

तुम अपनी चीज़ें कर रहे हो,

तुम अपना काम कर रहे हो।

तुम्हें लगता है ऐसा कि तुमने ईशनिन्दा नहीं की,

परेशान नहीं किया, पर अपना कार्य करना है दखल देना।

स्वभाव से तुम ईश्वर का विरोध करते हो।

बिन प्रार्थना, तुम काम नहीं कर सकते।

लाती है ये सेवा और काम।

यदि तुम परमेश्वर की सेवा करते हो,

पर कभी तुम गंभीर या समर्पित

प्रार्थना के प्रति नहीं हुये,

तुम इस तरह सेवा करने में होगे असफल।


"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला: 434 परमेश्वर की मनोरमता को महसूस करने के लिए अपने दिल को उसकी ओर मोड़ दो

अगला: 525 परमेश्‍वर की सच्‍ची आराधना करने वाला बनने का प्रयास करो

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें