422 समर्पण और उचित प्रार्थनाएँ बहुत महत्व की हैं

1 लोगों की प्रार्थनाएँ पवित्र आत्मा के कार्य की वाहिकाएँ होती हैं। जब कोई सही दशा वाला व्यक्ति प्रार्थना करता है या कुछ माँगता है, तो पवित्र आत्मा भी कार्य कर रहा होता है। यह परमेश्वर और मनुष्य के बीच दो भिन्न नज़रियों से अच्छा तालमेल है या यह भी कहा जा सकता है कि परमेश्वर मनुष्य के कुछ मसलों को सुलझाने में उसकी मदद करता है और जब लोग परमेश्वर के सामने आते हैं तो यह एक तरह का सहयोग होता है। यह उन तरीकों में से भी एक है जिनसे परमेश्वर लोगों को बचाता है और उन्हें स्वच्छ बनाता है और उससे भी ज़्यादा, यह सामान्य जीवन प्रवेश का एक मार्ग है। यह कोई रस्म नहीं है। प्रार्थना एक गहन महत्व की चीज़ हैं! यदि तुम प्रार्थना करने का तरीका जानते हो और अक्सर प्रार्थना करते हो तो ऐसी अक्सर की जाने वाली, परमेश्वर के प्रति आज्ञाकारी और विवेकसम्मत प्रार्थनाओं के साथ, तुम्हारी आंतरिक दशा ज़्यादातर सामान्य रहेगी।

2 जब कोई निजी तौर पर प्रार्थना में कुछ कहता है तो उसे गंभीरता से लेना चाहिए और उसके प्रति ईमानदार रवैया अपनाना चाहिए; जब तुम मसीह के सामने आते हो, तभी तुम सामान्य समझ रख सकते हो। लोगों को परमेश्वर के सामने कैसे आना चाहिए? प्रार्थना और आत्म-मंथन के ज़रिए, यह जानने के लिए कि विवेकपूर्ण ढंग से कैसे बोलना चाहिए, मानवीय परिप्रेक्ष्य से कैसे बोलना चाहिए और अपने हृदय से कैसे बोलना चाहिए। मात्र ऐसी बातें मत बोलो जो केवल सुनने में अच्छी लगें या जो केवल परमेश्वर की खुशामद करने का प्रयास हों। यदि कुछ समय तक तुम इन बातों का अभ्यास करोगे, तो तुम समझ जाओगे कि परमेश्वर से प्रार्थना और संगति कैसे करनी है, और तब तुम्हारे लिए पवित्र आत्मा के कार्य को प्राप्त करना सरल हो जाएगा।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'प्रार्थना का महत्व और अभ्यास' से रूपांतरित

पिछला: 421 पवित्र आत्मा का कार्य पाने के लिए प्रार्थना में दिल से बात करो

अगला: 423 बिना सच्ची प्रार्थना के, सच्ची सेवा नहीं होती

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें