422 पवित्र आत्मा का कार्य पाने के लिये सत्य की खोज करो

1 भले ही जब लोग प्रार्थना करने के लिए घुटने टेकते हैं, तो वे परमेश्वर से एक अमूर्त क्षेत्र में बोल रहे होते हैं, तुम्हें अवश्य स्पष्ट रूप से समझना चाहिए कि उनकी प्रार्थनाएँ भी एक प्रकार की वाहक हैं जिनके माध्यम से पवित्र आत्मा कार्य करता है। जब लोग सही अवस्था में प्रार्थना करेंगे और खोजेंगे, तो पवित्र आत्मा भी साथ-साथ कार्य करेगा। यह दो भिन्न-भिन्न परिप्रेक्ष्यों से परमेश्वर और मानवजाति के बीच एक प्रकार का सामंजस्यपूर्ण सहयोग है; दूसरे शब्दों में, यह परमेश्वर है जो लोगों को कुछ मसलों से निपटने में सहायता कर रहा है। यह इंसानों की ओर से एक प्रकार का सहयोग है जब वे परमेश्वर की उपस्थिति में आते हैं; यह एक प्रकार का तरीका भी है जिसके द्वारा परमेश्वर लोगों को बचाता और शुद्ध करता है। इससे भी अधिक यह लोगों का जीवन में उचित प्रवेश का एक मार्ग है, और यह एक प्रकार की रस्म नहीं है। प्रार्थना का महत्व बहुत गहरा है! यदि तुम प्रायः प्रार्थना करते हो और तुम्हें पता है कि प्रार्थना कैसे करनी है—निरन्तर विनम्रता और तर्कसंगत तरीके से प्रार्थना कर रहे हो—तो तुम्हारी आंतरिक अवस्था विशेष रूप से उचित रहेगी।

2 प्रार्थना का महत्व बहुत गहरा है! यदि तुम प्रायः प्रार्थना करते हो और तुम्हें पता है कि प्रार्थना कैसे करनी है—निरन्तर विनम्रता और तर्कसंगत तरीके से प्रार्थना कर रहे हो—तो तुम्हारी आंतरिक अवस्था सदा उचित रहेगी। जब तुम सब मसीह की उपस्थिति में नहीं होते हो तो जिन वचनों के साथ तुम प्रार्थना करते हो उनमें तुम्हें गम्भीर और ईमानदार अवश्य होना चाहिए है। वे लोग जो परमेश्वर पर विश्वास करते हैं, वे परमेश्वर की उपस्थिति में कैसे आते हैं? प्रार्थना के द्वारा। जब तुम प्रार्थना करते हो, तो जाँच करो कि तर्क के साथ कैसे बोलना है, लोगों के लिए सही स्थान में कैसे बोलना है, विनम्रता की अवस्था में कैसे बोलना है, और किस प्रकार से बोलना तुम्हारे हृदय को असहज करता है (उन प्रार्थनाओं को छोड़कर, जो ईमानदारी से नहीं बोली जाती हैं)। यह और उत्तम होगा यदि तुमने कुछ समय के लिए अभ्यास करो और तब परमेश्वर की उपस्थिति में आओ।

— "मसीह की बातचीतों के अभिलेख" में "प्रार्थना का महत्व और अभ्यास" से रूपांतरित

पिछला: 599 अपना कर्तव्य निभाने के लिए जीना सार्थक है

अगला: 743 गरिमा है उसमें जो करता है आदर परमेश्वर का

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-सूची

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें