278 कोई ताकत आड़े आ नहीं सकती उस लक्ष्य के जो हासिल करना चाहता है परमेश्वर

1

परमेश्वर अब फिर आया है जगत में अपना कार्य करने।

अधिनायकों की विशाल सभा उसका पहला पड़ाव है:

चीन-मज़बूत गढ़ है नास्तिकता का, गढ़ है नास्तिकता का।

अपनी बुद्धि और सामर्थ से पा लिया है लोगों के एक समूह को परमेश्वर ने।

इस समय के दरमियाँ पीछा करता है उसका हर तरह से, चीन का सत्ताधारी दल।

वो सह रहा है दुख-दर्द, न आरामगाह है न कोई आसरा है।

फिर भी, वो उस काम में लगा है, जो काम करना है उसे,

जो काम करना है उसे: अपनी वाणी सुनाना और सुसमाचार फैलाना।

2

परमेश्वर की सर्वशक्तिमत्ता की थाह कोई पा नहीं सकता।

चीन जैसे देश में जो शत्रु समझता है परमेश्वर को,

परमेश्वर ने अपना काम रोका नहीं कभी, रोका नहीं कभी।

बल्कि और ज़्यादा लोग आए हैं, स्वीकार करने उसके काम को, उसके वचन को,

क्योंकि परमेश्वर जो भी कर सकता है, करता है, मानवता को बचाने,

परमेश्वर जो भी कर सकता है, करता है, इंसान को बचाने।

परमेश्वर जो हासिल करना चाहता है,

न कोई देश आ सकता है उस रास्ते में, न आ सकती ताकत कोई।

अगर बाधा डालेगा कोई परमेश्वर के काम में,

या करेगा विरोध कोई उसके वचन का,

रोकेगा या पहुँचाएगा नुकसान उसकी योजना को,

तो सज़ा देगा परमेश्वर उसे अंत में, तो सज़ा देगा परमेश्वर उसे अंत में।

3

अगर अवहेलना करता है कोई परमेश्वर के काम की,

तो परमेश्वर पहुँचा देता है सीधे उसे नरक में।

अगर कोई देश अवहेलना करता है उसके काम की,

तो परमेश्वर कर देता है तबाह उस देश को।

अगर कोई राष्ट्र सिर उठाता है परमेश्वर के काम के विरोध में,

तो वो मिटा देगा उसे धरती से, और फिर रहेगा न वजूद उसका।

परमेश्वर जो हासिल करना चाहता है,

न कोई देश आ सकता है उस रास्ते में, न आ सकती ताकत कोई।

अगर बाधा डालेगा कोई परमेश्वर के काम में,

या करेगा विरोध कोई उसके वचन का,

रोकेगा या पहुँचाएगा नुकसान उसकी योजना को,

तो सज़ा देगा परमेश्वर उसे अंत में, तो सज़ा देगा परमेश्वर उसे अंत में।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर संपूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियंता है' से रूपांतरित

पिछला: 277 जो परमेश्वर के स्वभाव को भड़काता है उसे अवश्य दंडित किया जाना चाहिए

अगला: 279 परमेश्वर ने नीनवे के राजा के पश्चाताप की प्रशंसा की

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें