54 मेरे हृदय की लालसा

1

मानव-जीवन की लंबी यात्रा

हवा, वर्षा और कई बदलावों से भरी।

लंबे खिंचे साल, कठिन, वीरान।

काले बादल बनाते अँधेरा रसातल।

शैतान का बोलबाला, है वो इतना क्रूर,

उसका तानाशाही शासन विचार करता कैद।

प्रलोभित इंसान खो देता दिशा,

शोहरत, दौलत के पीछे भागते पूरा जख्मी हो जाता।

आहत होकर मानवता की समता खोता।

घावों से भरा, शरीर और मन से थका।

लड़ने का दम नहीं बचा, हताश है।

कोई ठौर नहीं, पीड़ा है, उलझनें हैं।

सच्ची पवित्र भूमि पाने की ललक है।

पूरी दुनिया में खोजती फिरती हूँ।

मायूसी भरे दिल से, प्रार्थना करती हूँ आग्रह से,

आशा है, प्रभु मुझे दुख से बचा लेगा।

2

एक धमाके से सात गर्जनें गूँजती हैं।

अंत के दिनों का मसीह प्रकट होता और कार्य करता।

मैंने ईश-वचन सुने, उसके सामने आयी हूँ।

उसके वचनों का आनंद लेती हूँ, सत्य को जानती हूँ।

मसीह के वचन मुझे सींचते,

मैंने सच्चे ईश-प्रेम का अनुभव किया है।

परीक्षण, पीड़ा और शुद्धिकरण के जरिये,

निरंतर विकास से जीवन समृद्ध होता।

न्याय से गुजरकर मैं भ्रष्टता त्याग देती हूँ,

और शुद्धि और उद्धार पाती हूँ।

अब और न होंगे आँसू, न होंगे संकट।

हृदय खोल झुकूँ ईश्वर के आगे।

अपने प्रेम के कारण ईश्वर ने मुझे चुना;

मैं उसके उद्धार के लिए आभारी हूँ।

करूँ सत्य का अभ्यास, जीऊँ उसके सामने,

निभाके फर्ज़ उसके प्रेम का कर्ज़ चुकाऊँ।

अपने प्रेम के कारण ईश्वर ने मुझे चुना;

मैं उसके उद्धार के लिए आभारी हूँ।

करूँ सत्य का अभ्यास, जीऊँ उसके सामने,

निभाके फर्ज़ उसके प्रेम का कर्ज़ चुकाऊँ।

निभाके फर्ज़ उसके प्रेम का कर्ज़ चुकाऊँ।

पिछला: 53 परमेश्वर के सामने लौट आना सचमुच एक आशीष है

अगला: 55 हम भाग्‍यशाली हैं कि हम परमेश्‍वर के आगमन के साक्षी हैं

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें