665 इम्तहान में परमेश्वर को इंसान का सच्चा दिल चाहिए

I

नए अनुयायी के तौर पर, तेरा भरोसा कम होता है,

परमेश्वर की ख़ुशी के लिये तू नहीं जानता क्या करना है,

जब तू सच के लिये नया होता है।

जब तू इम्तहान में हो, तो पूरी सच्चाई से दुआ कर,

अपने दिल पे परमेश्वर को राज करने दे,

जो कुछ प्यारा है तुझे, सब परमेश्वर के हवाले कर दे।

तू जितना अधिक उपदेश सुनेगा,

उतना अधिक सच को समझेगा,

तू जितना उठेगा, उतनी बढ़ेंगी उम्मीदें उसकी,

तेरे साथ ही उसकी उम्मीदों का दर्जा बढ़ेगा।

परमेश्वर जब तेरा इम्तहान लेगा, तो देखेगा तू कहां खड़ा है,

तेरा दिल उसके, तेरे जिस्म के, या शैतान के साथ है।

परमेश्वर जब तेरा इम्तहान लेगा, तो देखेगा तू कहां खड़ा है,

उसके मन के अनुरूप, तू क्या उसकी तरफ़ होगा?

II

तू जितना सुनेगा, उतना जानेगा,

जब तेरे अंदर उतरेगी, परमेश्वर की सच्चाई, तेरा कद बढ़ता जाएगा।

तू जितना जानेगा, उतनी उम्मीद बढ़ेगी उसकी,

हाँ, तेरे साथ ही उसकी उम्मीदों का दर्जा बढ़ेगा।

परमेश्वर जब तेरा इम्तहान लेगा, तो देखेगा तू कहां खड़ा है,

तेरा दिल उसके, तेरे जिस्म के, या शैतान के साथ है।

परमेश्वर जब तेरा इम्तहान लेगा, तो देखेगा तू कहां खड़ा है,

उसके मन के अनुरूप, तू क्या उसकी तरफ़ होगा?

III

जब इंसान अपना दिल, रफ़्ता-रफ़्ता परमेश्वर को देता है,

तो वो उसके करीब और करीब होता जाता है।

जब इंसान सच में परमेश्वर के करीब आता है,

तो दिल में उसका भय बढ़ता ही जाता है,

जो दिल परमेश्वर का भय माने, वही पसंदीदा दिल है।

परमेश्वर को ऐसे ही दिल की चाहत है।

परमेश्वर जब तेरा इम्तहान लेगा, तो देखेगा तू कहां खड़ा है,

तेरा दिल उसके, तेरे जिस्म के, या शैतान के साथ है।

परमेश्वर जब तेरा इम्तहान लेगा, तो देखेगा तू कहां खड़ा है,

उसके मन के अनुरूप, तू क्या उसकी तरफ़ होगा?

उसके मन के अनुरूप, तू क्या उसकी तरफ़ होगा?

जो दिल परमेश्वर का भय माने, परमेश्वर को ऐसे ही दिल की चाहत है।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला: 664 जब परमेश्वर मानवजाति के विश्वास की परीक्षा लेता है

अगला: 666 परमेश्वर के वचनों के द्वारा परखा जाना आशीष पाना है

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें