665 इम्तहान में परमेश्वर को इंसान का सच्चा दिल चाहिए

1

नए अनुयायी के तौर पर, तेरा भरोसा कम होता है,

परमेश्वर की ख़ुशी के लिये तू नहीं जानता क्या करना है,

जब तू सच के लिये नया होता है।

जब तू इम्तहान में हो, तो पूरी सच्चाई से दुआ कर,

अपने दिल पे परमेश्वर को राज करने दे,

जो कुछ प्यारा है तुझे, सब परमेश्वर के हवाले कर दे।

तू जितना अधिक उपदेश सुनेगा, उतना अधिक सच को समझेगा,

तू जितना उठेगा, उतनी बढ़ेंगी उम्मीदें उसकी,

तेरे साथ ही उसकी उम्मीदों का दर्जा बढ़ेगा।

परमेश्वर जब तेरा इम्तहान लेगा, तो देखेगा तू कहां खड़ा है,

तेरा दिल उसके, तेरे जिस्म के, या शैतान के साथ है।

परमेश्वर जब तेरा इम्तहान लेगा, तो देखेगा तू कहां खड़ा है,

उसके मन के अनुरूप, तू क्या उसकी तरफ़ होगा?

2

तू जितना सुनेगा, उतना जानेगा,

जब तेरे अंदर उतरेगी, परमेश्वर की सच्चाई, तेरा कद बढ़ता जाएगा।

तू जितना जानेगा, उतनी उम्मीद बढ़ेगी उसकी,

हाँ, तेरे साथ ही उसकी उम्मीदों का दर्जा बढ़ेगा।

परमेश्वर जब तेरा इम्तहान लेगा, तो देखेगा तू कहां खड़ा है,

तेरा दिल उसके, तेरे जिस्म के, या शैतान के साथ है।

परमेश्वर जब तेरा इम्तहान लेगा, तो देखेगा तू कहां खड़ा है,

उसके मन के अनुरूप, तू क्या उसकी तरफ़ होगा?

3

जब इंसान अपना दिल, रफ़्ता-रफ़्ता परमेश्वर को देता है,

तो वो उसके करीब और करीब होता जाता है।

जब इंसान सच में परमेश्वर के करीब आता है,

तो दिल में उसका भय बढ़ता ही जाता है,

जो दिल परमेश्वर का भय माने, वही पसंदीदा दिल है।

परमेश्वर को ऐसे ही दिल की चाहत है।

परमेश्वर जब तेरा इम्तहान लेगा, तो देखेगा तू कहां खड़ा है,

तेरा दिल उसके, तेरे जिस्म के, या शैतान के साथ है।

परमेश्वर जब तेरा इम्तहान लेगा, तो देखेगा तू कहां खड़ा है,

उसके मन के अनुरूप, तू क्या उसकी तरफ़ होगा?

उसके मन के अनुरूप, तू क्या उसकी तरफ़ होगा?

जो दिल परमेश्वर का भय माने, परमेश्वर को ऐसे ही दिल की चाहत है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर का स्वभाव और उसका कार्य जो परिणाम हासिल करेगा, उसे कैसे जानें' से रूपांतरित

पिछला: 664 जब परमेश्वर इंसान की आस्था की परीक्षा लेता है

अगला: 666 धन्य है वे जिनकी ईश-वचनों से परीक्षा होती है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें