146 हर हालात में मृत्यु तक रहूंगा/रहूंगी वफ़ादार

स्वर्ग से धरती तक, देह में छिपा हुआ।

मनुष्यों के बीच, तेज़ हवाओं और वर्षा के बीच

काम करते हुए।

कठिन राह लेते हुए,

एक नया युग शुरू करते हुए।

मानव जाति को मुक्त करने के लिए

अपना जीवन देने के लिए,

अपना रक्त बहाने के लिए।

हवा और बारिश, इतने सालों से।

हर मनुष्य द्वारा छोड़ा गया।

विनम्र और छिपा हुआ

हर कदम पर सहते हुए।

विनम्र और छिपा हुआ

हर कदम पर सहते हुए।

तुम्हारी इच्छा के लिए बलिदान करूँ; यही है मेरी इच्छा।

हालांकि देह गुज़र रहा है परीक्षणों से,

मज़बूत है मेरी इच्छा।

अधिक तीव्रता से करूँ तुम्हें प्रेम;

कड़वाहट सबसे मीठी।

आँसूओं से आंखें हैं धुंधली,

लेकिन मेरा जीवन है इतना उज्ज्वल।

बार-बार तोड़ा और मरोड़ा गया,

तुम्हारी इच्छा का ख्याल और बढ़ गया।

मृत्यु तक वफ़ादार, हर हालत में।

मृत्यु तक वफ़ादार, हर हालत में।

दर्द से गुज़रते हुए,

कठिनाइयाँ सहते हुए।

ताड़ित और अनुशासित,

मृत्यु से पुनर्जीवित।

तुम्हारी देखभाल में एक बार फिर,

तुम्हारे लिए प्रेम और बढ़ गया।

अतीत के बारे में सोचते हुए,

मेरे दिल में है बहुत पछतावा।

बार-बार तोड़ा और मरोड़ा गया,

तुम्हारी इच्छा का ख्याल और बढ़ गया।

मृत्यु तक वफ़ादार, हर हालत में।

मृत्यु तक वफ़ादार, हर हालत में।

भारी बोझ है,

अब कोई संकोच नहीं।

मेरी कम है हैसियत।

तुम्हारे प्रेम का धन्यवाद,

आज तक की मेरी यात्रा ने

अनुभव किया तुम्हारा महान प्यार।

कड़वा और मीठा,

दुखों के साथ ख़ुशी।

बार-बार तोड़ा और मरोड़ा गया,

तुम्हारी इच्छा का ख्याल और बढ़ गया।

मृत्यु तक वफ़ादार, हर हालत में।

मृत्यु तक वफ़ादार, हर हालत में।

दया करो,

मेरी दुर्बलता पर दया करो।

अपने क्रोध को बरसाओ,

मेरी नाफ़र्मानी का शापित करो।

बेहद दयावान,

अत्यंत क्रोधी।

देखी है तुम्हारी महिमा,

अनुभव किया है तुम्हारा ज्ञान।

बार-बार तोड़ा और मरोड़ा गया,

तुम्हारी इच्छा का ख्याल और बढ़ गया।

मृत्यु तक वफ़ादार, हर हालत में।

मृत्यु तक वफ़ादार, हर हालत में।

तुम्हारे प्रेम में जिऊँ,

ख़ुद को तुम्हें भेंट कर दूँ।

दर्दनाक शुद्धिकरण,

सभी किया तुमने पूर्वनिर्धारित।

सिद्ध होना,

तुम्हारा कार्य पूरा करना,

तुम्हारे दिल को संतुष्ट करना,

यही है मेरा जीवन।

मीठा और कड़वा, मैंने बहुत कुछ चखा है।

कठिनाइयां मेरे जीवन में भरपूर हैं।

दुख हो या कड़वाहट,

मैं करूंगा/करूंगी नहीं शिकायत।

अपने जीवन के अंत तक

मैं करूंगा/करूंगी नहीं शिकायत।

पिछला: 145 आँधी-तूफ़ानों में

अगला: 147 हार्दिक लगाव का गीत

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें