147 हार्दिक लगाव का गीत

1

एक है देहधारी परमेश्वर।

जो भी वो कहता, जो भी वो करता, सब सत्य है।

उसकी धार्मिकता और बुद्धि से प्रेम है मुझे।

उसे देखना, उसकी बात मानना, एक आशीष है।

उसके दिल और प्यार ने जीत लिया है मुझे।

और नहीं खोजती, अब उसके पीछे दौड़ती हूँ मैं।

उसकी गवाही देने खातिर, सहती हूँ मुश्किलें मैं,

पर ये अच्छा लगता है मुझे।

उसके प्रति वफादार हूँ मैं, अपने प्रियतम से प्रेम है मुझे।

2

मेरा प्यार अब उसका है, और आनंदित हूँ मैं।

अपना सब कुछ देकर, उसके लिए जीना, मेरा जीवन है।

उसे प्यार कर पाना, उसकी सेवा करना, गौरव की बात है।

परमेश्वर की इच्छा है कि हम गवाही दें और घोषणा करें उसके लिए।

उसके विचारों के बारे में सोचती, उसकी परवाह का ख्याल करती,

उसके दिल के प्रति विचारशील हूँ मैं।

उसका अनुमोदन, उसकी संतुष्टि ही मेरी इच्छा है।

परमेश्वर के घर में सेवक बन कर्तव्य पूरा करूँगी मैं।

परमेश्वर की गवाही और उसे महिमा देना, सच्ची ख़ुशी है।

उसके दिल और प्यार ने जीत लिया है मुझे।

और नहीं खोजती, अब उसके पीछे दौड़ती हूँ मैं।

पिछला: 146 आँधी-तूफानों में भी साथ रहूँगा, मृत्यु तक निष्ठावान रहूँगा

अगला: 148 परमेश्वर से प्रेम करने के प्रयास में परम आनंद है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें