104 मैं परमेश्वर की उपस्थिति में रहता हूँ

1 मैं हर दिन परमेश्वर के वचनों पर चिंतन-मनन करते हुए उसकी उपस्थिति में शांत रहता हूँ। अपने आप को जाँचते हुए मैं देखता हूँ कि मेरे विचारों और वाणी से अभी भी कई भ्रष्टताएँ प्रवाहित होती हैं। मैं अकसर अपने बोलने और काम करने में आडंबर करता हूँ, ताकि अन्य लोग मेरी ओर देखें। मैं हमेशा दूसरों पर हावी होना चाहता हूँ, मैं दंभी और अभिमानी हूँ, और मैं एक इंसान की सदृशता को नहीं जीता। परमेश्वर के वचनों के न्याय और प्रकटन का सामना करके मुझे बहुत शर्मिंदगी होती है। देखने में ऐसा लग सकता है कि मैं अच्छा व्यवहार करता हूँ, लेकिन मेरा स्वभाव नहीं बदला। मेरे पास कोई वास्तविकता नहीं है, बल्कि मैं अभी भी बहुत अभिमानी हूँ, जिससे परमेश्वर ने लंबे समय से घृणा की है। मुझे इस बात से नफरत है कि मैं इतनी गहराई से भ्रष्ट हो चुका हूँ, और मैं परमेश्वर के न्याय को स्वीकार करना चाहता हूँ।

2 मैं परमेश्वर की उपस्थिति में शांत हूँ और सभी चीजों में उसकी इच्छा की तलाश करता हूँ। मैं परमेश्वर के वचनों में उसके साथ संवाद करता हूँ, सत्य को समझता हूँ और मेरा हृदय प्रदीप्त हो जाता है। लोगों, घटनाओं और चीजों का सामना करते हुए मैं जो गलतफहमियाँ पाल लेता हूँ, उससे पता चलता है कि मेरे पास कोई वास्तविकता नहीं है। मैं हमेशा शिकायत करता हूँ, अपनी मासूमियत का दावा करता हूँ और उसकी सफाई देने की कोशिश करता हूँ, और मैं जरा भी आज्ञाकारी नहीं हूँ। सत्य की समझ हासिल कर मैं देखता हूँ कि इंसान को शुद्ध करने का परमेश्वर का काम बहुत वास्तविक है। लोगों की धारणाओं में कोई बात जितनी अधिक असंगत होती है, उसमें तलाश करने के लिए उतना ही अधिक सत्य निहित होता है। परमेश्वर के वचन का अनुभव करना और वास्तविकता में प्रवेश करना वास्तव में परमेश्वर के आमने-सामने होना है। मैं परमेश्वर के प्रेम का अनुभव करता हूँ, मैं अब भ्रमित या विवश नहीं हूँ।

3 मैं परमेश्वर की उपस्थिति में रहता हूँ और हर समय उसकी जाँच-पड़ताल स्वीकार करता हूँ। एक के बाद एक, मेरे विचार और कार्य परमेश्वर के वचन के न्याय और शोधन को स्वीकार करते हैं। जब मैं देखता हूँ कि परमेश्वर का स्वभाव कितना धार्मिक और पवित्र है, तो मेरा दिल श्रद्धा से भर जाता है। मैं परमेश्वर द्वारा सुरक्षित हूँ और उसे और नाराज नहीं करूँगा, और मेरी आत्मा शांत है। मैं खुद को अकसर परमेश्वर की उपस्थिति में शांत करता हूँ, और मेरा दिल परमेश्वर का भय मानता है और बुराई का त्याग करता है। मैं परमेश्वर के वचन का अभ्यास करता हूँ और सत्य के अनुसार आचरण करता हूँ, और मैं परमेश्वर से प्रेम करता हूँ और उसकी आज्ञा का पालन करता हूँ। परमेश्वर का वचन मेरा मार्गदर्शन करता है, और मैं परमेश्वर में आस्था के सही मार्ग पर चल पड़ता हूँ। सत्य को प्राप्त कर लेने के बाद मेरी भ्रष्टता शुद्ध हो गई है, और मैं अपने हृदय में परमेश्वर की प्रशंसा करता हूँ।

पिछला: 103 नए जीवन का यशगान करो

अगला: 105 परमेश्वर के सामने जी कर मैं बहुत खुश हूँ

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें