105 परमेश्वर के सामने जी कर मैं बहुत खुश हूँ

भाइयों और बहनों, पमेश्वर के वचनों का आनंद लो

और पमेश्वर के सामने आनंद से जिओ।

I

परमेश्वर के वचनों पर सहभागिता के माध्यम से,

सत्य के बारे में हमारा ज्ञान वास्तविक बन जाता है।

धार्मिक अवधारणाओं को दूर किया जाता है,

और हम देखते हैं कि परमेश्वर के वचन सत्य हैं।

हम मेमने के विवाह के भोज में शामिल हो सकते हैं,

हमारे दिल अतुलनीय रूप से आनंदित हैं।

परमेश्वर के न्याय का अनुभव कर,

हम निर्मल हुए हैं और व्यावहारिक परमेश्वर को जानते हैं।

हम सिर्फ़ रस्में मानते थे, हमारा विश्वास बहुत अस्पष्ट था।

अब अंतिम दिनों का मसीह अपने वचनों को कहता है;

यह आपूर्ति देता है, हमारी चरवाही करता है और वास्तविक है।

सत्य को जानकर, हम मुक्त हुए हैं, परमेश्वर के सामने जीते हैं।

भाइयों और बहनों, पमेश्वर के वचनों का आनंद लो

और पमेश्वर के सामने आनंद से जिओ।

II

सत्य पर सहभागिता कर,

हम अपने घमंड, फ़रेब और गैर-इंसानियत को जान पाते हैं।

हम खुद से नफ़रत करते हुए, देहासक्ति को त्यागते हैं।

हम परमेश्वर को प्रसन्न करने और सत्य का

अभ्यास करने का निश्चय करते हैं।

नेक होने के नाते, हम कथनी और करनी को एक करते हैं;

हम सभी के दिलों को, अहा, कितना मधुर लगता है!

शैतान की कोई चाल नहीं, न ही कोई झूठ होगा।

हम एक होकर, सत्य को मानते हैं,

परमेश्वर के वचनों में प्रवेश करते हैं।

हम एक दूसरे को चाहते और मदद करते हैं,

सत्य के अनुसार काम करते हैं,

परमेश्वर से प्रेम करने का अभ्यास करते हैं,

अपने कर्तव्य निभाते हैं।

परमेश्वर का गुणगान करने और उसकी गवाही देने,

हम एक मानव सदृश जीवन जीते हैं।

भाइयों और बहनों, पमेश्वर के वचनों का आनंद लो

और पमेश्वर के सामने आनंद से जिओ।

III

परमेश्वर के वचन यातना और कठिन समय में हमारा मार्गदर्शन करते हैं।

निर्दयी बड़े लाल अजगर को परमेश्वर ने विफल किया है।

परमेश्वर की सर्वशक्तिमत्ता और बुद्धि देखकर,

हम सब हमेशा परमेश्वर का पूरे विश्वास के साथ अनुसरण करेंगे।

सभी तरह के परिक्षणों और कठिनाइयों से होकर,

अब हम परमेश्वर को जानते हैं और उसके द्वारा बचाए गए हैं।

यह परमेश्वर की दया है कि हम

मसीह की पीड़ा, राज्य और धैर्य में सहभागी होते हैं।

परमेश्वर की प्रजा ज्यों-ज्यों अधिक परिपक्व होगी,

त्यों-त्यों बड़ा लाल अजगर लुढ़केगा।

परमेश्वर के वचन पूरी तरह सच हो गए हैं।

मसीह का राज्य धरती पर है, हम सदा परमेश्वर की स्तुति करेंगे।

भाइयों और बहनों, पमेश्वर के वचनों का आनंद लो

और परमेश्वर के सामने आनंद से जिओ।

पिछला: 104 मैं परमेश्वर की उपस्थिति में रहता हूँ

अगला: 106 मैं बहुत ख़ुश हूँ परमेश्वर का प्रेम पा के

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें