103 नए जीवन का यशगान करो

हालेल्लुय्या! हालेल्लुय्या! हे सर्वशक्तिमान परमेश्वर!

हम धन्यवाद देते हैं, यशगान तुम्हारा करते हैं।

हालेल्लुय्या! हे सर्वशक्तिमान परमेश्वर!

हम सदा तुम्हारी आराधना करते हैं। (हालेल्लुय्या!)

1

अंत के दिनों में मसीह प्रकट हुए हैं। (हालेल्लुय्या! हालेल्लुय्या!)

न्याय, शुद्धिकरण करते हैं, राह हमें दिखाते हैं वचन उनके।

(हालेल्लुय्या!)

हृदय मेरा बदल गया है कथनों से उनके, (हालेल्लुय्या! हालेल्लुय्या!)

जीवन नया दिया उन्होंने ताकि उनका यशगान करूँ।

(हालेल्लुय्या! हालेल्लुय्या!)

सत्य को समझ लेना, बहुत ही उत्तम है। (हालेल्लुय्या! हालेल्लुय्या!)

अपने दूषण को त्याग, करूँ मैं कितनी मुक्ति का अहसास।

(हालेल्लुय्या! हालेल्लुय्या!)

सारी ग़लत धारणाएं मेरी चली गईं, (हालेल्लुय्या! हालेल्लुय्या!)

नहीं शेष मेरे अंदर अब विद्रोह कोई। (हालेल्लुय्या! हालेल्लुय्या!)

अब न भटकना, अब न यातना सहना।

कर दी गई है मुक्त आत्मा मेरी।

परमेश्वर का मैं यशगान करूँ।

परमेश्वर का यशगान करूँ। (हालेल्लुय्या!)

2

उज्ज्वल जीवन इंतज़ार करता मेरा। (हालेल्लुय्या! हालेल्लुय्या!)

परमेश्वर करते उत्कर्ष मेरा

कि उनके प्रेम का मैं आनंद उठाऊँ। (हालेल्लुय्या!)

मधुर प्रेम का आस्वादन मैंने पाया है। (हालेल्लुय्या!)

अब न कभी मैं छोड़ सकूँ परमेश्वर को। (हालेल्लुय्या! हालेल्लुय्या!)

आओ भाई-बहनो, हम सब मिल जाएँ, (हालेल्लुय्या! हालेल्लुय्या!)

अगल-बगल आ जाएं, सब एक हो जाएं। (हालेल्लुय्या! हालेल्लुय्या!)

एक दिल और एक मन से, (हालेल्लुय्या!)

सेवा करें उनकी, उनका यशगान करें। (हालेल्लुय्या!)

कौन है जो न कह पाया अपने दिल की?

कौन है जो न ज़ाहिर कर पाया प्यार अपना?

तुम नृत्य करो, यशगान करो परमेश्वर का,

मैं संग तुम्हारे करता हूँ करताल ध्वनि।

मैं संग तुम्हारे करता हूँ करताल ध्वनि।

3

गीत हमारे भरे हुए हैं, परमेश्वर के प्रेम से। (हालेल्लुय्या!)

नया कर दिया है हमको परमेश्वर ने। (हालेल्लुय्या!)

पहले का जीवन अब पीछे छूट गया। (हालेल्लुय्या!)

उत्तम समय अब हम सबका आया है।

सच्चाई की संगति मुक्त करती हमको। (हालेल्लुय्या!)

देना गवाही और निभाना फर्ज़ अपना, (हालेल्लुय्या!)

देता कितना आनंद; उज्ज्वल जीवन हमें बुलाता है। (हालेल्लुय्या!)

लेते हैं आनंद नवजीवन का लोग परमेश्वर के।

(हालेल्लुय्या! हालेल्लुय्या!)

तोड़ चुके हैं बंधन हम दुनिया के।

तोड़ चुके हैं बंधन हम परिवारों के। (हालेल्लुय्या!)

तोड़ चुके हैं बंधन हम देह के। (हालेल्लुय्या!)

है कितना मधुर प्यार करना इक-दूजे से! (हालेल्लुय्या!)

है कितना मधुर प्यार करना इक-दूजे से!

पिछला: 102 परमेश्वर हमारी आत्माओं को एक बार फिर प्रेरित करे

अगला: 104 मैं परमेश्वर की उपस्थिति में रहता हूँ

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें