744 शैतान पर अय्यूब की जीत का प्रमाण

1

ईश्वर के प्रति अय्यूब की आज्ञाकारिता देखो:

उसने कहा, "मैं नंगा आया, नंगा ही जाऊँगा।"

उसके वचन साबित करें वो शैतान पर विजयी हुआ।

उसने कहा "यहोवा ने दिया, यहोवा ने ही लिया। यहोवा का नाम धन्य है।"

अय्यूब की बातों से साबित होता, ईश्वर दिल की गहराई देखता।

वो इंसान के मन में देखता।

इनसे साबित होता उसके द्वारा

अय्यूब की स्वीकृति सही है, क्योकि वो इंसान धार्मिक था।

"यहोवा ने दिया, यहोवा ने ही वापस लिया।

यहोवा, यहोवा का नाम धन्य है।"

ईश्वर के प्रति अय्यूब की गवाही ये वचन, कहते हैं,

"यहोवा का नाम धन्य है, उसका नाम।"

2

इन मामूली वचनों से शैतान डरा, शर्मिंदा होके, घबरा कर भाग गया।

उसे बेड़ियों से बाँधा,और लाचार किया

इन वचनों ने शैतान को ईश्वर के सामर्थ्य का,

ईश्वर के अद्भुत कर्मों का, यहोवा ईश्वर के

विस्मयकारी कर्मों का एहसास करा दिया।

"यहोवा ने दिया, यहोवा ने ही वापस लिया। यहोवा, यहोवा का नाम धन्य है।"

ईश्वर के प्रति अय्यूब की गवाही ये वचन, कहते हैं, "यहोवा का नाम धन्य है।"

3

इन वचनों ने शैतान को उस इंसान का शानदार

आकर्षण दिखाया जिसका दिल ईश-मार्ग से संचालित था।

उन्होंने शैतान को छोटे और तुच्छ इंसान की

ईश्वर का भय मानने, बुराई से दूर रहने के मार्ग पर चलने की

ताकतवर जीवन-शक्ति दिखायी, ताकतवर जीवन-शक्ति दिखायी।

"यहोवा ने दिया, यहोवा ने ही वापस लिया। यहोवा, यहोवा का नाम धन्य है।"

ईश्वर के प्रति अय्यूब की गवाही ये वचन, कहते हैं,

"यहोवा का नाम धन्य है, उसका नाम।"

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II' से रूपांतरित

पिछला: 743 गरिमा है उसमें जो करता है आदर परमेश्वर का

अगला: 745 अय्यूब की गवाही ने शैतान को हरा दिया

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें