112 सृजित प्राणी के हृदय की वाणी

1

कितनी ही बार मैंने पुकारना चाहा,

मगर सही न लगी जगह कोई मुझे।

कितनी ही बार मैंने ऊँचे सुर में गाना चाहा,

मगर एक भी धुन न मिली कहीं मुझे।

कितनी ही बार तड़पा हूँ,

सृजित प्राणी का प्यार ज़ाहिर करूँ।

हर जगह तलाश की मैंने,

मगर शब्द सारे नाकाम रहे।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर तू मेरे दिल का प्यार है।

सृजित प्राणी के दिल की वाणी है।

2

धूल से आया इंसान,

मगर उसमें कोई ज़िंदगी न थी।

इंसान को बनाकर हमें तूने साँसें दीं,

हमें तूने ज़िंदगी की साँसें दीं।

अफ़सोस, हमें भ्रष्ट किया शैतान ने,

गँवा दिया अपना विवेक, अपना ज़मीर हमने।

पीढ़ी-दर-पीढ़ी, और भी आगे तलक,

हो चुका है पतन इंसान का।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर तू मेरे दिल का प्यार है।

सृजित प्राणी के दिल की वाणी है।

दिल उछलता है, हाथ नाचे ख़ुशी से मेरे

धरती पर तेरे आगमन की स्तुति में।

भ्रष्ट था मैं, फिर भी मुझे बचाया तूने।

अब देखता हूँ महिमामय चेहरा तेरा।

तेरी योजना का पालन,

तेरी इच्छा को संतुष्ट करूँगा,

अपने लिये अब कुछ न चुनूँगा।

मैं धूल से आया हूँ;

महान आशीष है प्रेम करना तुझे।

कैसे न तुझे नमन, न तेरी आराधना मैं करूँ?

3

तूने रचा है, तू प्यार करता है इंसान को।

तूने देहधारण किया फिर से, बचाने इंसान को।

मनोहर मंज़िल पर लाने के लिये इंसान को,

तूने हर अपमान सहा,

तूने हर अत्याचार सहा,

ज़िंदगी के हर खट्टे-मीठे अनुभव लिये तूने।

ऐसे महान उद्धार के लिये

कैसे न बेशुमार शुक्रिया अदा करें तेरा हम?

सर्वशक्तिमान परमेश्वर तू मेरे दिल का प्यार है।

सृजित प्राणी के दिल की वाणी है।

4

आज सिर्फ़ तेरे उत्कर्ष,

अनुग्रह के कारण बचकर,

इंसानी ज़िंदगी का अनुसरण करता हूँ मैं।

तेरे वचनों का आनंद लेता हूँ, तेरा न्याय स्वीकारता हूँ मैं।

तेरी धार्मिकता, पवित्रता को जानता हूँ मैं।

तू ही सबसे प्यारा है,

तमाम कष्टों, दुखों को सहकर, ये एहसास करता हूँ मैं।

तेरे कार्य का अनुभव लेकर,

तेरी रोशनी में रहता हूँ,

शुद्ध हो रहा हूँ मैं।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर तू मेरे दिल का प्यार है।

सृजित प्राणी के दिल की वाणी है।

हर जीव का फ़र्ज़ है परमेश्वर की आराधना करे,

हर जीव का फ़र्ज़ है तेरी आराधना करे।

बेहद नफ़रत है मुझे शैतान से,

मुझे लुभाने की हर चाल चलता है वो।

तेरे सारे न्याय में तुझे चाहूँगा मैं।

तेरी सारी ताड़ना में तुझे चाहूँगा मैं।

देह-सुखों की कामना अब नहीं मुझे,

शैतान के अधीन अब नहीं रहता मैं।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर तू मेरे दिल का प्यार है।

सृजित प्राणी के दिल की वाणी है।

पिछला: 111 चल रहा हूँ पथ पर राज्य की ओर मैं

अगला: 113 मेरा हृदय परमेश्वर के वचन को सँजोए रखता है

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें