566 परमेश्वर उन्हें आशीष देता है जो ईमानदार हैं

1

जब तुम ईश्वर को देते हो दिल और उसे धोखा नहीं देते हो,

जब तुम खुद से ऊँचे या नीचे लोगों को कभी नहीं छलते हो,

जब ईश्वर के प्रति साफ़दिल हो सब चीज़ों में,

जब तुम ईश्वर की चापलूसी वाले काम न करो,

है ये बनना ईमानदार।

ईमानदारी है अपने कार्यों और वचनों से अशुद्धि को दूर रखना,

और न ईश्वर न लोगों को ठगना।

ईमानदारी है अपने कार्यों और वचनों से अशुद्धि को दूर रखना,

और न ईश्वर न लोगों को ठगना।

यही है ईमानदारी, ओ, यही है ईमानदारी।

2

यदि तुम्हारे वचन बहानों से भरे हों, भरे हों व्यर्थ स्पष्टीकरणों से,

तो तुम सच्चाई का अभ्यास नहीं कर रहे, ना ही तुम करना चाहते हो।

प्रकाश और मोक्ष कैसे पाओगे तुम अगर अपने राज़ न खोलो?

यदि तुम सच्चाई का मार्ग खोज प्रसन्न होते हो, तो सदा तुम प्रकाश में जियोगे।

ईमानदारी है अपने कार्यों और वचनों से अशुद्धि को दूर रखना,

और न ईश्वर न लोगों को ठगना।

ईमानदारी है अपने कार्यों और वचनों से अशुद्धि को दूर रखना,

और न ईश्वर न लोगों को ठगना।

यही है ईमानदारी, ओ, यही है ईमानदारी।

3

यदि चाहते हो ईश्वर के घर में सेवा करना,

मेहनत से, फ़ायदे के उम्मीद के बिन,

तो तुम परमेश्वर के एक वफ़ादार संत हो जिसे केवल है ईमानदार बनना।

यदि ईश्वर की गवाही के लिए तुम अपना जीवन दो,

यदि चाहते हो उसे खुश करना बिन अपने बारे में सोचे,

पोषित तुम्हे प्रकाश करेगा, और जियोगे उसके राज्य में हमेशा।

ईमानदारी है अपने कार्यों और वचनों से अशुद्धि को दूर रखना,

और न ईश्वर न लोगों को ठगना।

ईमानदारी है अपने कार्यों और वचनों से अशुद्धि को दूर रखना,

और न ईश्वर न लोगों को ठगना।

यही है ईमानदारी, ओ, यही है ईमानदारी।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'तीन चेतावनियाँ' से रूपांतरित

पिछला: 565 स्वयं को जान लेने के बाद ही कोई अपने आपसे घृणा कर सकता है

अगला: 567 मनुष्य में परमेश्वर की महिमा बहुत महत्व रखती है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें