अध्याय 48

मैं चिंतित हूँ, लेकिन तुम में से कितने लोग मेरे साथ एक मन और एक सोच के होने में सक्षम हैं? तुम मेरे वचनों पर कोई ध्यान ही नहीं देते हो, पूरी तरह से उनकी अवहेलना करते हो और उन पर ध्यान केंद्रित करने में विफल रहते हो, बल्कि केवल अपनी सतही चीज़ों पर ही तुम लोग ध्यान केंद्रित करते हो। तुम मेरे द्वारा की गई कष्टप्रद देखभाल और मेरे प्रयास को व्यर्थ मानते हो; क्या तुम्हारा विवेक निकम्मा नहीं है? तुम अज्ञानी और विवेकहीन हो; तुम मूर्ख हो, और मुझे बिल्कुल ही संतुष्ट नहीं कर सकते। मैं पूरी तरह से तुम सब के लिए हूँ—तुम सब किस हद तक मेरे हो सकते हो? तुमने मेरे इरादे को गलत समझा है, और यह वास्तव में तुम्हारा अंधापन और चीज़ों को देखने में तुम्हारी असमर्थता है, जिससे मुझे हमेशा तुम लोगों के बारे में चिंता करनी पड़ती है और तुम सब पर समय बिताना पड़ता है। अब, तुम लोग अपने समय में से कितना मेरे लिए खर्च कर सकते हो और मुझे समर्पित कर सकते हो? तुम्हें खुद से और अधिक पूछना चाहिए।

मेरा इरादा तुम सब की खातिर है—क्या तुम वास्तव में इसे समझते हो? यदि तुम वास्तव में इसे समझते होते, तो तुम लोग बहुत पहले ही मेरे इरादे को जान चुके होते और मेरे बोझ के प्रति विचारशील हो गये होते। फिर से लापरवाह मत बनो, वर्ना पवित्र आत्मा तुम में कार्य नहीं करेगा, जिससे तुम्हारी आत्मायें मर जाएँगी और नरक में जा गिरेंगीं। क्या यह तुम्हारे लिए बहुत भयावह नहीं है? मेरे लिए तुम्हें फिर से याद दिलाने की कोई ज़रूरत नहीं है। तुम लोगों को अपनी अंतरात्माओं में ढूँढना चाहिए और खुद से पूछना चाहिए: क्या मुद्दा यह है कि मुझे तुम सभी के लिए बहुत खेद है, या यह कि तुम सब मेरे प्रति बहुत ऋणी हो? सही और गलत में भ्रम न करो और विवेकहीन न बनो! अब सत्ता और लाभ के लिए लड़ने या साज़िश करने का समय नहीं है, बल्कि तुम्हें जल्द ही इन चीज़ों को, जो जीवन के लिए बहुत हानिकारक हैं, हटा देना चाहिए, और वास्तविकता में प्रवेश करना चाहिए। तुम बहुत लापरवाह हो! तुम न तो मेरे दिल को समझ सकते हो, न ही मेरे इरादे को महसूस कर सकते हो। ऐसी कई चीज़ें हैं जिन्हें मुझे कहने की आवश्यकता नहीं होनी चाहिए, लेकिन तुम सब ऐसे भ्रमित लोग हो जो समझ नहीं पाते हो, इसलिए मुझे उन्हें बार-बार कहना पड़ता है, और फिर भी, तुम लोगों ने अभी भी मेरे दिल को संतुष्ट नहीं किया है।

तुम्हें एक-एक करके गिनने लगूँ, तो कितने हैं जो वास्तव में मेरे दिल के प्रति विचारशील हो सकते हैं?

पिछला: अध्याय 47

अगला: अध्याय 49

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

परमेश्वर के स्वभाव और उसका कार्य जो परिणाम हासिल करेगा, उसे कैसे जानें

सबसे पहले, आओ हम एक भजन गाएँ: राज्य गान (I) राज्य जगत में अवतरित होता है।संगत: जन समूह मेरा का जय-जयकार करता है, जन समूह मेरी स्तुति करता...

कार्य और प्रवेश (4)

यदि मनुष्य वास्तव में पवित्र आत्मा के कार्य के अनुसार प्रवेश कर सके, तो उसका जीवन वसंत ऋतु की वर्षा के बाद बाँस की कली की तरह शीघ्र अंकुरित...

स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है IX

परमेश्वर सभी चीज़ों के लिए जीवन का स्रोत है (III)इस अवधि के दौरान, हमने परमेश्वर को जानने से संबंधित बहुत सारी चीज़ों के बारे में बात की है,...

अभ्यास (8)

तुम लोग अभी भी सत्य के विभिन्न पहलुओं को नहीं समझते हो और तुम्हारे अभ्यास में अभी भी काफी गलतियाँ और भटकाव हैं; बहुत से क्षेत्रों में, तुम...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें