सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

वचन देह में प्रकट होता है

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

अध्याय 58

यदि तुम मेरा इरादा समझ जाओगे, तो तुम मेरे बोझ के प्रति विचारशील रह पाओगे और तुम रोशनी और प्रकाशन प्राप्त कर पाओगे, और रिहाई और स्वतंत्रता प्राप्त कर पाओगे, मेरे दिल को संतुष्ट कर पाओगे, तुम्हारे लिए मेरी इच्छा को पूरी होने दोगे, सभी संतों की नैतिक उन्नति को साथ ला पाओगे, और पृथ्वी पर मेरे राज्य को दृढ़ और स्थिर बना पाओगे। इस समय महत्वपूर्ण बात है मेरा इरादा समझना, यह वह मार्ग है जिसमें तुम लोगों को प्रवेश करना चाहिए और इससे भी अधिक वह कर्तव्य है जिसे हर व्यक्ति को पूरा करना चाहिए।

मेरा वचन अच्छी दवा है जो सभी प्रकार की बीमारियों को ठीक करता है। जब तक तुम मेरे पास आने के इच्छुक रहोगे, मैं तुम्हें चंगा करूँगा, और तुम्हें अपनी सर्वज्ञता की उपस्थिति देखने दूंगा, मेरे अद्भुत कर्मों को देखने दूंगा, मेरी धार्मिकता और महिमा को देखने दूंगा और इससे भी अधिक अपने दूषण और अपनी कमज़ोरियों को देखने दूंगा। मैं तुम्हारे भीतर की सभी स्थितियां समझता हूं; तुम हमेशा अपने दिल में चीज़ें करते हो और बाहर नहीं दिखाते हो। तुम्हारे द्वारा की जाने वाली हर चीज़ के बारे में मैं और भी स्पष्ट हूं। लेकिन तुम्हें पता होना चाहिए कि मैं किन चीज़ों की प्रशंसा करता हूं, और किन चीज़ों की प्रशंसा नहीं करता हूं; तुम्हें इन दोनों के बीच स्पष्ट रूप से अंतर करना चाहिए और तुम्हें इस पर लापरवाही से काम नहीं करना चाहिए।

तुम परमेश्वर के बोझ के प्रति चिंता पर केवल होंठ हिलाते हो, लेकिन जब तुम तथ्यों का सामना करते हो, तो तुम कोई चिंता नहीं करते हो, हालांकि तुम्हें स्पष्ट रूप से पता है कि परमेश्वर का बोझ क्या है। तुम वास्तव में अत्यंत अव्यवस्थित हो, कुछ हद तक बेवकूफ़ हो, और उससे भी अधिक अनाड़ी हो। यह बताता है कि मनुष्य को संभालना कितना मुश्किल है और वे केवल अपने होंठों से एक ऐसी ध्वनि निकालते हैं जो सुनने में अच्छी हो, जैसे कि "मुझे परमेश्वर के इरादे समझ नहीं आते हैं, लेकिन अगर मैं इसे समझ लूंगा तो मैं निश्चित रूप से इसे ध्यान में रखकर कार्य करूंगा।" क्या यह तुम लोगों की वास्तविक स्थिति नहीं है? यद्यपि तुम सभी को परमेश्वर के इरादे पता हैं, और तुम जानते हो कि तुम्हारी बीमारी का कारण क्या है, महत्वपूर्ण बात यह है कि तुम अभ्यास करने के इच्छुक नहीं हो; यह सबसे बड़ी कठिनाई है। यदि तुम तुरंत इसका हल नहीं करते हो, तो यह तुम्हारे जीवन की सबसे बड़ी बाधा होगी।

पिछला:अध्याय 57

अगला:अध्याय 59