अध्याय 50

सभी कलीसियाओं और सभी संतों को अतीत के बारे में सोचना चाहिए और इसके साथ ही, भविष्य की ओर भी देखना चाहिए : तुम्हारे पिछले कार्यों में से कितने योग्य हैं, और उनमें से कितने राज्य के निर्माण में भागीदार रहे हैं? अपने-आपको होशियार न समझो! तुम्हें अपनी कमियों को स्पष्ट रूप से देखना चाहिए और अपनी परिस्थिति को समझना चाहिए। मुझे पता है कि तुम लोगों में से कोई भी इस संबंध में कोई प्रयास करने, और थोड़ा-भी समय देने का इच्छुक नहीं है, इसलिए तुम किन्हीं भी उपलब्धियों को पाने में सक्षम नहीं होते। तुम सब अपना पूरा समय खाने, पीने और मजे करने में व्यर्थ गँवा देते हो। जब तुममें से कुछ लोग एकजुट होते हैं तो तुम मस्ती करते हो, जीवन में आध्यात्मिक मामलों पर संगति करने या एक-दूसरे को जीवन प्रदान करने पर कोई ध्यान नहीं देते हो। जब तुम बातें करते हो तो तुम्हें हँसते और मज़ाक करते हुए देखना मैं सहन नहीं कर सकता, और फिर भी तुमलोग इतने बेतुके हो। मैंने कई बार कहा है, लेकिन तुम लोग मैं जो कहता हूँ उसका अर्थ ही नहीं जानते हो—क्या यह कुछ ऐसा नहीं है जो इतना स्पष्ट है कि मानो तुम्हारी नाक की नोंक पर धरा है? मैंने पहले भी इस तरह की बातें कही हैं, पर तुम लोगों को अभी भी विश्वास नहीं है और मैं जो भी कहता हूँ तुम उसे स्वीकार नहीं करते हो, यह सोचते हुए कि मैं तुम सभी को गलत समझता हूँ, यह सोचते हुए कि जो भी मैं कहता हूँ वह वास्तविक नहीं है। या क्या ऐसा हो सकता है कि यह बात न हो?

यदि तुम मेरे प्रति लापरवाही दिखाते हो तो मैं तुम्हें एक तरफ़ रख दूँगा। तुम एक बार फिर से बेपरवाह होने की हिम्मत तो करो! तुम एक बार फिर से विचारहीन और लापरवाह होने की हिम्मत तो करो! मेरे वचन एक तराशने वाला चाकू हैं; जो कुछ भी मेरी इच्छा के अनुरूप नहीं है, उसे इस चाकू से काट कर हटा दिया जाएगा, और तुम्हें अपने आत्म-सम्मान के बारे में बहुत अधिक विचार करने की ज़रुरत नहीं है। मैं तुम्हें तराशता हूँ ताकि तुम मेरी इच्छा के अनुसार आकार ले सको और इसके अनुरूप हो सको। मेरे दिल को गलत मत समझो; एकमात्र स्वीकार्य तरीका यही है कि तुम यथासंभव मेरे दिल के प्रति विचारशील बनो। यदि तुम ज़रा-सी भी विचारशीलता दिखाते हो, तो मैं तिरस्कार से तुमसे मुँह नहीं मोड़ूँगा। इसे हमेशा कोई सोच-विचार किए बिना अनदेखा न करो; मेरी इच्छा को लगातार अपने-आप पर लागू होने दो।

संतों की भारी संख्या अलग-अलग पदों पर विराजमान है, इसलिए निसंदेह तुम सभी के अलग-अलग कार्य हैं। लेकिन तुम सबको ईमानदारी से मेरे लिए खुद को खपाने के वास्ते अपनी पूरी शक्ति से काम करनाचाहिए; तुम लोगों का कर्तव्य यह है कि तुम वह सब करो जो तुम कर सकते हो। तुम्हें इसमें वफ़ादार होना चाहिए और खुशी से तैयार रहना चाहिए। तुम्हें बिल्कुल भी अन्यमनस्क नहीं होना चाहिए! अन्यथा मेरा न्याय सदैव तुम सब पर हावी रहेगा, तुम लोगों की देह और आत्मा इसे सहन नहीं कर पाएँगे, और तुम रोते और दांत पीसते रह जाओगे!

पिछला: अध्याय 49

अगला: अध्याय 51

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

सात गर्जनाएँ होती हैं—भविष्यवाणी करती हैं कि राज्य का सुसमाचार पूरे ब्रह्मांड में फैल जाएगा

मैं अपने कार्य को अन्यजाति देशों में फैला रहा हूँ। मेरी महिमा पूरे ब्रह्मांड में चमकती है; सभी तरह के लोग मेरी इच्छा अपने भीतर रखते हैं, और...

अध्याय 6

लोग जब परमेश्वर के कथन पढ़ते हैं तो वे अवाक रह जाते हैं और सोचते हैं कि परमेश्वर ने आध्यात्मिक क्षेत्र में बहुत बड़ा कार्य किया है, कुछ ऐसा...

इंसान को अपनी आस्था में, वास्तविकता पर ध्यान देना चाहिए—धार्मिक रीति-रिवाजों में लिप्त रहना आस्था नहीं है

तुम कितनी धार्मिक परम्पराओं का पालन करते हो? कितनी बार तुमने परमेश्वर के वचन के खिलाफ विद्रोह किया है और अपने तरीके से चले हो? कितनी बार...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें