242 मैंने परमेश्वर के प्रेम का बहुत आनंद लिया है

1 मैं शैतानी स्वभाव से भरा हुआ एक भ्रष्ट इंसान हूँ। तेरे वचनों का न्याय और प्रकाशन मुझे शर्मिंदा करते हैं। मैंने देख लिया कि मेरी भ्रष्टता बहुत गहरी है, मेरे अंदर किंचित-मात्र ही इंसानियत है। मेरे अंदर सत्य की कोई वास्तविकता नहीं है। इससे मेरा दिल दुखी होता है। मैं संकट में चुपचाप रोता हूँ। मैं तुझे संतुष्ट क्यों नहीं कर पाता? यह देखकर कि तू कैसे मेरे पश्चात्ताप की प्रतीक्षा करता है, मैं अब निराशा में नहीं डूबता, खोता नहीं हूँ। तेरा प्रेम मेरे दिल को झकझोर देता है, तेरा प्रेम देखकर मेरी आँखों से आंसुओं की झड़ी लग जाती है। तेरे प्रेम ने मेरा दिल जीत लिया, इस वजह से मुझे तुझसे बहुत अधिक प्रेम हो गया। तेरा अनुसरण करके मैंने सत्य को प्राप्त कर लिया, केवल तू ही इतना मनोहर है।

2 तेरे वचनों के न्याय से गुज़रते हुए, मैंने अपनी भ्रष्टता की सच्चाई को स्पष्ट रूप से देख लिया। मेरे अंदर न इंसानियत है, न अक्ल है, मैं फिर भी अहंकारी और आत्माभिमानी हूँ। मैं पूरी तरह से शैतानी स्वभाव को जी रहा हूँ, फिर भी मुझे लगता है कि मैं नेक इंसान हूँ। मैंने देख लिया है कि मेरी भ्रष्टता बहुत गहरी है, मुझे तेरे शुद्धिकरण और उद्धार की आवश्यतकता है। तेरे न्याय का हर वचन मेरी भ्रष्टता के स्रोत को उजागर करता है। मैं पश्चाताप करता हूँ, साष्टाँग दंडवत करता हूँ, मैंने तेरी धार्मिकता देखी है। अगर भ्रष्ट इंसान को न्याय और शुद्धिकरण मिलता है, तो यह मात्र तेरा प्रेम ही है। आज तेरे सामने जीना पूरी तरह से तेरा उद्धार है। तेरे उद्धार का अनुग्रह पाकर, तेरे लिए मेरा प्रेम और भी पवित्र हो जाता है।

3 मैं परीक्षण के दायरे में हो सकता हूँ, फिर भी मेरा दिल तेरे प्रेम को महसूस करता है। शुद्धिकरण के दौरान तेरे वचन मुझे सुकून देते हैं, मुझे पता है कि तू मुझे पूर्ण कर रहा है। तेरे शुद्धिकरण और उद्धार को प्राप्त करना वास्तव में तेरा अनुग्रह है। तेरे न्याय और ताड़ना में जो सच्चा प्रेम छिपा है, वो मैंने देख लिया है। मुझे इस बात से ही खुशी है कि मैं तुझे प्रेम कर सकता हूँ, मैं तेरी स्तुति किए बिना नहीं रह सकता। तेरा प्रेम बहुत महान, बहुत सच्चा, और बहुत सुंदर है, मेरे आनंद की कोई सीमा नहीं है। मेरा दिल पूरी तरह से तेरा है, मैं हमेशा तेरा उत्कर्ष करूँगा और तेरी गवाही दूँगा। मैं हर दिन तुझे प्रेम करना चाहता हूँ, ताकि तुझे मेरा प्रेम हासिल हो सके। तूने मुझे बहुत प्रेम दिया है, मैं तुझे अनंत काल तक प्रेम करना चाहता हूँ।

पिछला: 241 परमेश्वर का प्रेम रहता है मेरे दिल में सदा

अगला: 243 मेरे दिल को और कुछ नहीं चाहिए

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें