214 ईश्वर ईश्वर है, इंसान इंसान है

1

शायद ईश-वचनों की पुस्तक खोली हो तुमने

शोध करने या स्वीकारने के इरादे से, मगर इसे दर-किनार न करना।

इसे पूरा पढ़ना, शायद ये वचन तुम्हारा मन बदल दें,

तुम्हारे इरादों और समझ के आधार पर।

मगर एक बात तुम्हें जान लेनी चाहिए :

ईश-वचन नहीं हैं इंसान के, न इंसान के शब्द हैं ईश्वर के।

ईश्वर द्वारा प्रयुक्त इंसान, देहधारी ईश्वर नहीं,

देहधारी ईश्वर, ईश्वर द्वारा प्रयुक्त इंसान नहीं।

एक मौलिक भेद है इसमें।

आख़िर ईश्वर ईश्वर है, इंसान इंसान है।

ईश्वर में ईश्वर का सार है, इंसान में इंसान का सार है।

ईश-वचन पवित्र आत्मा द्वारा बताया गया प्रबोधन नहीं;

प्रेरितों और नबियों के वचन ईश्वर के नहीं।

उन्हें ईश्वर का मानना इंसान की भूल है।

2

इन वचनों को पढ़कर अगर, तुम इन्हें ईश-वचन न मानकर,

इंसान द्वारा हासिल प्रबोधन मानो, तो फिर तुम अज्ञानी हो।

ईश्वर के वचन इंसान को हासिल प्रबोधन के समान नहीं।

देहधारी ईश्वर के वचन शुरू कर सकते हैं नए युग को,

वो शुरू कर सकते हैं नए युग को।

वो राह दिखा सकते हैं हर इंसान को,

खोल सकते हैं रहस्य, दिशा दे सकते इंसान को।

इंसान द्वारा हासिल प्रबोधन महज़ अभ्यास और ज्ञान की राह दिखाए।

ये हर इंसान को नए युग में न ले जा सके, या ईश्वर के राज़ न खोल सके।

आख़िर ईश्वर ईश्वर है, इंसान इंसान है।

ईश्वर में ईश्वर का सार है, इंसान में इंसान का सार है।

ईश-वचन पवित्र आत्मा द्वारा बताया गया प्रबोधन नहीं;

प्रेरितों और नबियों के वचन ईश्वर के नहीं।

ऐसा सोचना इंसान की भूल है।

3

तुम्हें मिलाना नहीं चाहिए सही और गलत को,

ऊँचे-नीचे को, गहरे और छिछले को,

झुठलाना नहीं चाहिए जानते तुम जिस सत्य को।

सही नज़रिए से समस्याओं की जाँच करो,

ईश्वर के नए काम, नए वचनों को

उसके सृजित प्राणी की नज़र से स्वीकार करो।

विश्वासी इन कामों को अवश्य करें, वरना ईश्वर हटा देगा तुम्हें।

आख़िर ईश्वर ईश्वर है, इंसान इंसान है।

ईश्वर में ईश्वर का सार है, इंसान में इंसान का सार है।

ईश-वचन पवित्र आत्मा द्वारा बताया गया प्रबोधन नहीं;

प्रेरितों और नबियों के वचन ईश्वर के नहीं।

उन्हें ईश्वर का मानना इंसान की भूल है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" की 'प्रस्तावना' से रूपांतरित

पिछला: 213 क्या तुम लोगों ने पवित्र आत्मा को बोलते सुना है?

अगला: 215 परमेश्वर की महिमा का दिन

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें