सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

वचन देह में प्रकट होता है

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

अध्याय 8

चूँकि सर्वशक्तिमान परमेश्वर—राज्य के राजा—की गवाही दी गई है, पूरे ब्रह्मांड में परमेश्वर के प्रबंधन का दायरा पूरी तरह खुलकर सामने आया है। न केवल परमेश्वर के प्रकटन की गवाही चीन में दी गई है, बल्कि सभी राष्ट्रों और सभी देशों में सर्वशक्तिमान परमेश्वर के नाम की गवाही दी गई है। वे सभी इस पवित्र नाम को पुकार रहे हैं, किसी भी तरह से परमेश्वर के साथ सहभागिता करने की खोज कर रहे हैं, सर्वशक्तिमान परमेश्वर की इच्छा को समझ रहे हैं और कलीसिया में मिल कर सेवा कर रहे हैं। पवित्र आत्मा इस अद्भुत तरीके से काम करता है।

विभिन्न राष्ट्रों की भाषाएँ एक दूसरे से अलग हैं लेकिन आत्मा केवल एक है। यह आत्मा संसार भर की कलीसियाओं को जोड़ता है और किसी भी अंतर के बिना, परमेश्वर के साथ एक है, और यह कुछ ऐसा है जो संदेह से परे है। पवित्र आत्मा अब उन्हें पुकारता है और उसकी आवाज़ उन्हें जगाती है। यह परमेश्वर की दया की आवाज़ है। वे सब सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पवित्र नाम को पुकार रहे हैं! वे प्रशंसा भी करते हैं और गाते हैं। पवित्र आत्मा के कार्य में कभी भी कोई चूक नहीं हो सकती है, और सही मार्ग पर आगे बढ़ने के लिए ये लोग किसी भी हद तक जाते हैं, वे पीछे नहीं हटते हैं और चमत्कारों पर चमत्कार होते रहते हैं। यह कुछ ऐसा है जिसकी कल्पना करना भी लोगों के लिए मुश्किल होता है और इसका अनुमान लगाना उन्हें असंभव लगता है।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर सारे ब्रह्मांड में जीवन का राजा है! वह महिमामय सिंहासन पर बैठता है और दुनिया का न्याय करता है, सभी पर वर्चस्व रखता है, सभी राष्ट्रों पर शासन करता है; सभी लोग उसके सामने घुटने टेकते हैं, उससे प्रार्थना करते हैं, उसके करीब आते हैं और उसके साथ संवाद करते हैं। चाहे तुमने परमेश्वर में कितने भी लम्बे समय से विश्वास किया हो, चाहे तुम्हारा क़द कितना भी ऊंचा हो या तुम्हारी वरिष्ठता कितनी भी अधिक हो, यदि तुम अपने दिल में परमेश्वर का विरोध करते हो तो तुम्हारा न्याय किया जाना चाहिए और तुम्हें परमेश्वर के सामने पीड़ायुक्त आग्रह की आवाज़ के साथ दंडवत होना चाहिए; यह वास्तव में तुम्हारे अपने कर्मों के फल को भुगतना है। यह कराहने की आवाज़ अग्नि और गंध की झील में उत्पीड़ित होने की आवाज़ है, और यह परमेश्वर की लोहे की छड़ी से प्रताड़ित होने का क्रंदन है; यह मसीह के आसन के सामने किया गया न्याय है।

कुछ लोग डरते हैं, कुछ संकोची होते हैं, कुछ जाग उठते हैं, कुछ लोग सावधानीपूर्वक सुनने पर ध्यान देते हैं, कुछ को अत्यधिक पछतावा महसूस होता है और वे पश्चाताप करते हैं और नए से शुरू करते हैं, कुछ दर्द में फूट-फूटकर रोते हैं, कुछ लोग सब कुछ त्याग देते हैं और बेतहाशा खोज करते हैं, कुछ लोग खुद की जाँच करते हैं और अब अंधाधुंध ढंग से काम करने की हिम्मत नहीं करते, कुछ परमेश्वर के करीब आने के लिए तत्काल तलाश करते हैं, कुछ अपने स्वयं के विवेक की जाँच करते हैं, और पूछते हैं कि उनका जीवन प्रगति क्यों नहीं कर सकता है। कुछ अभी भी एक दुविधा में हैं, कुछ अपने पैरों की बेड़ियों को खोल देते हैं और साहसपूर्वक आगे बढ़ते हैं, वे मूल बात को समझ लेते हैं और अपने जीवन को व्यवस्थित करने में कोई समय नहीं खोते हैं; कुछ अभी भी संशय करते हैं और अपने दर्शन में अस्पष्ट रहते हैं, और वे जो बोझ उठाते और अपने दिल में ढोते हैं वह वास्तव में भारी होता है।

यदि तुम्हारा मन स्पष्ट नहीं है तो पवित्र आत्मा के पास तुम्हारे अन्दर कार्य करने का कोई तरीक़ा नहीं होगा। तुम जिस पर अपना ध्यान केंद्रित करते हो, जिस तरह से तुम चलते हो और तुम्हारा दिल जिसकी लालसा करता है, वह सब तुम्हारी अवधारणाओं और तुम्हारी आत्म-तुष्टि से भरा होता है! मैं अधीरता में झुलसता हूँ—काश मैं तुम सभी को तुरंत पूर्ण कर सकता ताकि तुम जल्द ही मेरे लिए काम के हो सको और मेरे भारी बोझ को हल्का किया जा सके। लेकिन तुम सभी को देखकर, मुझे परिणामों के लिए अधीर होना अव्यावहारिक लगता है। मैं केवल धैर्यपूर्वक प्रतीक्षा कर सकता हूँ, धीरे-धीरे चल सकता हूँ और धीरे-धीरे सहारा देकर तुम्हारा नेतृत्व कर सकता हूँ। आह, तुम लोगों को अपने दिमाग स्पष्ट करने चाहिए! क्या छोड़ देना चाहिए, तुम्हारे ख़जाने क्या हैं, तुम्हारी घातक कमज़ोरियाँ क्या हैं, तुम्हारी बाधाएँ क्या हैं, उन्हें अपनी आत्मा में पहचानो और मेरे साथ मिलकर अधिक सहभागिता करो। मैं चाहता हूँ कि तुम सब अपने दिलों में ख़ामोशी से मेरी ओर देखो, मैं तुम लोगों की कोरी बातें नहीं चाहता। तुममें से जो सच्चाई से मेरे सामने खोजते हैं, मैं उनके लिए सब कुछ प्रकट कर दूँगा। मेरी गति तेज़ होती जाती है; यदि तुम्हारा दिल मेरा आदर करता है और तुम हर समय अनुपालन करते हो तो मेरी इच्छा तुम्हें प्रेरणा के माध्यम से प्रदान की जा सकती है और किसी भी समय तुम्हारे लिए प्रकट की जा सकती है। जो लोग प्रतीक्षा करने पर ध्यान देते हैं, वे पोषण पाएँगे और आगे बढ़ेंगे। जो लोग विचारशून्य हैं, उनके लिए मेरे दिल को समझना मुश्किल होगा, और वे एक बंद रास्ते पर निकल पड़ेंगे।

मैं चाहता हूँ कि तुम सब जल्दी से उठ जाओ और मेरे साथ सहयोग करो, और सिर्फ़ एक दिन और एक रात के लिए नहीं बल्कि हमेशा के लिए मेरे करीब हो जाओ। मेरा हाथ हमेशा तुम सभी को अवश्य आगे खींचता रहे और तुम सब को प्रेरणा देता रहे, तुम लोगों को आगे धकेलता रहे, तुम सभी को आगे बढ़ने के लिए मनाता रहे और आग्रह करता रहे! तुम लोग तो मेरी इच्छा को समझ ही नहीं पाते हो। तुम्हारी अपनी अवधारणाओं की और दुनिया की उलझनों की बाधाएँ बहुत गंभीर है और तुम मेरे साथ गहरी निकटता पाने में असमर्थ हो। स्पष्ट कहूँ तो, तुम मेरे पास तभी आते हो जब तुम्हारे पास कोई समस्या होती है, लेकिन जब कोई समस्या नहीं होती तो तुम्हारे दिल परेशान हो जाते हैं। तुम्हारे दिल एक खुले बाज़ार की तरह बन जाते हैं और शैतानी स्वभाव से भर जाते हैं, वे सांसारिक चीज़ों में व्यस्त रहते हैं और तुम नहीं जान पाते कि मेरे साथ सहभागिता कैसे करनी है। कैसे मैं तुम लोगों के बारे में चिंता न करूँ? लेकिन चिंता करने से कोई बात नहीं बनेगी। समय निकला जा रहा है और कार्य बहुत कठिन है। मेरे कदम बहुत तेज़ी से आगे बढ़ते हैं; तुम लोगों को अपना सब कुछ मजबूती से थामे रखना होगा, हर पल मेरी ओर देखो, मेरे साथ घनिष्ठता से सहभागिता करो और निश्चित रूप से मेरी इच्छा किसी भी समय तुम्हारे सामने प्रकट की जाएगी। जब तुम सभी मेरे दिल को समझ लेते हो, तो तुम्हारे पास आगे बढ़ने का तरीक़ा होता है। तुम्हें अब और संकोच नहीं करना चाहिए। मेरे साथ सच्ची सहभागिता करो, और धोखा देने या चालाक बनने की कोशिश मत करो; इससे तुम केवल खुद को धोखा दोगे और मसीह के आसन के सामने यह किसी भी समय प्रकट हो जाएगा। खरे सोने को आग से भय नहीं होता है—यह सच्चाई है! कोई हिचकिचाहट मत रखो, निराश या दुर्बल मत बनो। अपनी आत्मा में सीधे मेरे साथ अधिक सहभागिता करो, धैर्यपूर्वक प्रतीक्षा करो और मैं निश्चित रूप से अपने समय के अनुसार तुम्हारे सामने प्रकट हूँगा। तुम्हें, वास्तव में, बहुत ध्यान रखना होगा और मेरे प्रयासों को बर्बाद नहीं होने देना, और एक पल को भी खोना नहीं। जब तुम्हारा दिल मेरे साथ निरंतर सहभागिता में रहता है, जब तुम्हारा दिल लगातार मेरे सामने रहता है, तो कोई भी व्यक्ति, कोई भी घटना, कोई भी बात, कोई पति, बेटा या बेटी तुम्हारे दिल में मेरे साथ सहभागिता करने में, विघ्न नहीं डाल सकती है। जब तुम्हारा दिल पवित्र आत्मा द्वारा लगातार प्रतिबंधित होता है और जब तुम हर पल मेरे साथ सहभागिता करते रहते हो, तो मेरी इच्छा निश्चित रूप से तुम्हारे लिए प्रकट की जाएगी। जब तुम लगातार इस तरह से मेरे करीब आते हो, चाहे तुम्हारा परिवेश कैसा भी हो या कोई भी अवसर हो, तुम परेशान न होगे चाहे तुम्हें जिसका भी सामना करना पड़े, और तुम्हारे पास आगे बढ़ने का एक मार्ग होगा।

यदि आम तौर पर तुम बड़े या छोटे मामलों में कुछ भी गड़बड़ी नहीं करते हो, यदि तुम्हारे दिलोदिमाग़ शुद्ध हैं, और यदि तुम अपनी आत्मा में शांत हो, तो जब भी तुम्हारे सामने कोई समस्या आती है तो मेरे वचन तुम्हारे भीतर तुरंत प्रेरित होंगे, एक उज्ज्वल दर्पण की तरह, जिसमें तुम स्वयं को जाँच सको, और तब तुम्हारे पास आगे बढ़ने का एक मार्ग होगा। इसे सही बीमारी के लिए सही दवा लेना कहते हैं! और कोई भी स्थिति निश्चित रूप से ठीक हो जाएगी—परमेश्वर इतना सर्वशक्तिमान है। मैं निश्चित रूप से उन सभी को प्रकाशित और प्रबुद्ध कर दूँगा जो धार्मिकता के लिए भूखे और प्यासे हैं और जो नेकी से खोज करते हैं। मैं आध्यात्मिक दुनिया के सभी रहस्यों को तुम्हें दिखाऊँगा और तुम सभी को आगे का मार्ग बताऊँगा, जिससे तुम जितनी जल्दी हो सके अपने पुराने भ्रष्ट स्वभाव को दूर कर सको, ताकि तुम जीवन की परिपक्वता को प्राप्त कर सको और मेरे काम के हो सको, और सुसमाचार का काम तेज़ी से और बिना किसी बाधा के आगे बढ़ सके। केवल तभी मेरी इच्छा संतुष्ट होगी, केवल तभी परमेश्वर की छः हजार साल की प्रबंधन योजना, जितनी जल्दी हो सके, पूरी हो जाएगी। परमेश्वर राज्य को हासिल करेगा और यह राज्य नीचे पृथ्वी पर आ जाएगा, और हम एक साथ महिमा में प्रवेश करेंगे!

पिछला:अध्याय 7

अगला:अध्याय 13