95 परमेश्वर का प्रेम

1

हे सर्वशक्तिमान परमेश्वर! तू स्वर्ग से इस संसार में आया है!

इंसान को बचाने के लिए तू परमपिता की इच्छा का पालन करता है,

तू देहधारण करके सत्य व्यक्त कर रहा है, और न्याय कर रहा है।

तू धार्मिक और प्रतापी है, और कोई इंसानी अपराध बर्दाश्त नहीं करता।

इंसान को बचाने के लिए तूने अपने हिस्से का सब कुछ सहा है, तूने कोई शिकायत नहीं की है।

दिनोदिन, बरसों-बरस,

तू कितनी अस्वीकृति, बदनामी, और उत्पीड़न, और कितने सारे कष्ट सहता है।

तू अपने चुने हुए लोगों के पोषण और उन्हें राह दिखाने के लिए अपने वचन अभिव्यक्त करता है;

तू हममें सत्य और जीवन भर देता है।

हे परमेश्वर! तू अपना सारा प्रेम इंसान की खातिर लूटा देता है।

बिना किसी पछतावे और शिकायत के तू हर कीमत चुकाता है।

तेरा प्रेम कितना महान है, तेरे सम्मानजनक स्वभाव की कोई तुलना नहीं है।

हम कैसे न ख़ुशी से नाचें और तेरा स्तुतिगान करें?

2

हे सर्वशक्तिमान परमेश्वर! तू कितना सम्मान-योग्य है, कितना अच्छा और सुंदर है!

तू कलीसियाओं में आते-जाते हुए कथन और वचन व्यक्त करता है।

तेरे वचन हर दिन हमारा मार्गदर्शन करते हैं,

हमारे भ्रष्ट स्वभावों का न्याय और उन्हें शुद्ध करते हैं।

परीक्षणों और शुद्धिकरण के जरिए हम तेरे सच्चे प्रेम को देखते हैं।

दिनोदिन, बरसों-बरस,

तू हमारा प्रतिरोध, विद्रहीपन, गलतफहमियाँ और शिकायतें सहता है।

अनवरत धैर्य के साथ तू हमारी जरूरतों को पूरा करता है।

हमने सत्य और एक नया जीवन पा लिया है।

हे परमेश्वर! तेरे कार्य का अनुभव करते हुए, हम तेरे प्रेम को जान पाए हैं।

तेरा स्वभाव धार्मिक और पवित्र है, और यह कितना प्रेमयोग्य है।

हम तुझे अपना दिल, अपना सर्वस्व अर्पित करने को तैयार हैं।

हमारी दिली तमन्ना है कि तुझे सदा प्रेम करें, और तेरी गवाही दें।

पिछला: 93 धरती पर सच्चा प्यार पाना क्यों है इतना मुश्किल

अगला: 96 परमेश्वर ने बहुत बड़ी कीमत चुकाई है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें