96 परमेश्वर ने बहुत बड़ी कीमत चुकाई है

1

परमेश्वर ने अंत के दिनों में देहधारण किया है, वह दीन बनकर इंसानों के बीच छिपा रहता है।

वह इंसानों को बचाने के लिए सत्य व्यक्त करता है; बिना किसी शिकायत के अपना अधिकतम देता है।

उसका दिल करुणामय है, फिर भी उसके प्रति लोगों का रुख ठंडा है।

वह अपनी जान देकर कीमत चुकाता है, लेकिन किसने उसका स्वागत एक मुसकान के साथ किया है?

उसने इंसान को बचाने की दिलो-जान से कोशिश की है।

लोग उसके दिल को समझते क्यों नहीं?

2

परमेश्वर मुझे वचनों से पुकारता है, और वह अपने सिंहासन के समक्ष मुझे उठाता है।

जब मुझमें अज्ञानता और कमियाँ होती हैं, तो परमेश्वर मुझे प्रबुद्ध करता है; जब मैं दुखी और कमजोर होता हूँ, तो परमेश्वर मुझे दिलासा देता है।

जब मैं अहंकारी, आत्माभिमानी, या विद्रोही होता हूँ, तो परमेश्वर का न्याय और ताड़ना मुझे अनुशासित करते हैं।

जब मैं मुसीबतों और परीक्षणों का अनुभव करता हूँ, तो परमेश्वर के वचन मेरा मार्गदर्शन और अगुआई करते हैं।

परमेश्वर के प्रेम से मेरा जीवन परिपक्व होता।

मैं परमेश्वर की उदारता का का मूल्य चुकाने के लिए अपना पूरा अस्तित्व अर्पित कर दूँगा।

3

परमेश्वर हमारे साथ रहता है, वह हमारी विपत्ति, खुशी और दर्द बाँटता है।

उसके वचन मेरा न्याय और शुद्धिकरण करते हैं; मैं अपनी भ्रष्टता छोड़ देता हूँ और बचा लिया जाता हूँ।

परमेश्वर को सिय्योन लौटना है; काश हम और साथ रह पाते।

मेरा दिल उदास और उचाट है; पता नहीं हम फिर कब साथ होंगे।

मुझे परमेश्वर का अनुग्रह याद आता है, जिसका हर दृश्य अविस्मरणीय है।

मुझे गहराई से उसकी सुलभता, वंदनीयता और मनोहरता महसूस होती है।

परमेश्वर का महान प्रेम मेरे दिल में अंकित है।

मैं बिना डगमगाए सदा उसका अनुसरण करता हूँ।

मैं परमेश्वर से प्रेम करूँगा और आजीवन उसके प्रेम का प्रतिदान दूँगा।

पिछला: 95 परमेश्वर का प्रेम

अगला: 97 परमेश्वर अब तक कार्य कर रहा है, फिर भी तुम अभी भी समझते क्यों नहीं हो?

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें