93 धरती पर सच्चा प्यार पाना क्यों है इतना मुश्किल

I 

कब से है मुझे तुम्हें देखने की लालसा, परमेश्वर।

मैं रहना नहीं चाहता अब तुमसे दूर।

तुम हो मेरे संप्रभु सृष्टिकर्ता,

लेकिन अब रह सकते हैं हम हमेशा एक साथ नहीं।

दूषित इंसान को बचाने के लिए सहते हो अत्यंत शर्मिंदगी तुम।

कौन समझ सकता है?

ख़ून और आंसुओं की सड़क पर सफ़र किया है तुमने,

कई महीनों और सालों से सही है तकलीफ़।

अपना पूरा प्यार लाए हो नीचे हमारे लिए तुम।

लोगों की मुश्किलों को साझा करते हो तुम,

फिर भी एकांत और त्याग सहन करते हो तुम।

कौन कर सकता है ख़्याल तुम्हारा और कर सकता तुमसे प्रेम?

हर पुकार, उम्मीद का हर दिन।

इंसान का प्यार हासिल करने के लिए अपना सब कुछ देते हो तुम।

फिर भी कोई नहीं दे पाता सच में दिलासा तुम्हें।

धरती पर सच्चा प्यार पाना क्यों है इतना मुश्किल?

II 

झुकती हूँ तुम्हारे सामने मैं, दुख से भरी हुई

मलाल करते हुए, क्षमा याचना करती हुई।

जो किया है मैंने उस पर है मुझे अफ़सोस।

मुझे नफ़रत है कि मैंने परवाह नहीं की तुम्हारे दिल की।

मेरे सभी दूषण निराश करते हैं तुम्हें।

कैसे मैं अपनी गलतियों का पश्चात्ताप करूं?

III 

तुम्हारी व्यक्त की गई सच्चाई बचाती है इंसान को,

दुनिया के लिए छोड़ती है धधकता प्यार।

तुमने जो मुझे सौंपा है

मेरे दिल में समाया हुआ है गहराई से।

मुझे चाहिए कुछ और नहीं,

बस हमेशा तुम्हारा वफ़ादार रहना है मुझे।

पिछला: 92 हमारा परमप्रिय सर्वशक्तिमान परमेश्वर

अगला: 94 परमेश्वर हमें पूरी गहराई से प्रेम करता है

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें