723 परमेश्वर के प्रति मनुष्य की आज्ञाकारिता का मानदंड

1

लगातार ईश्वर से माँगने के मायने हैं,

तुम उसकी आज्ञा नहीं मानते, सौदेबाज़ी का प्रयास कर रहे हो,

अपने विचार ख़ुद चुन रहे हो, उसके अनुसार चल रहे हो।

ये धोखा और अवज्ञा है। ईश्वर से माँगना अनुचित है।

अगर तुम ईश्वर मानते हो उसे, तो तुम माँग नहीं रखोगे।

कारण कुछ भी हो, तुम योग्य नहीं।

अगर उसे ईश्वर मानते हो, उसमें तुम्हारी आस्था है,

तो तुम उसे अवश्य पूजोगे, आज्ञा मानोगे।

जब जाँचना हो कि क्या लोग ईश्वर की आज्ञा मान सकें,

तो देखो क्या वे ईश्वर से हद से ज़्यादा चाहें,

या है उनकी छुपी मंशा कोई जिसे ध्यान में रखा जाए।

2

इंसान के पास न आज सिर्फ़ विकल्प है,

बल्कि वो ईश्वर पर अपनी इच्छा भी थोपे।

वो ईश्वर की इच्छा पर चलने के बजाय,

ईश्वर को अपनी मर्ज़ी से चलाना चाहे।

ईश्वर में उनकी न तो सच्ची आस्था है,

न ही वो सार है जो आस्था में निहित होता है।

मांगें कम होंगी तो बढ़ेगा आज्ञापालन, बढ़ेगी आस्था,

तुम्हारी समझ भी सही होगी।

अगर उसे ईश्वर मानते हो, उसमें तुम्हारी आस्था है,

तो तुम उसे अवश्य पूजोगे, आज्ञा मानोगे।

जब जाँचना हो कि क्या लोग ईश्वर की आज्ञा मान सकें,

तो देखो क्या वे ईश्वर से हद से ज़्यादा चाहें,

या है उनकी छुपी मंशा कोई जिसे ध्यान में रखा जाए।

3

जब तुम सच में ईश्वर की आज्ञा मानोगे,

तो तुम एक दिल, एक मन से अनुसरण करोगे उसका,

भले ही वो तुम्हारा इस्तेमाल करे;

या तुम्हारा रुतबा कुछ भी हो, तुम उसके लिए ख़ुद को खपाओगे।

तभी तुममें विवेक होगा, तुम सच में ईश्वर की आज्ञा मानोगे।

जब जाँचना हो कि क्या लोग ईश्वर की आज्ञा मान सकें,

तो देखो क्या वे ईश्वर से हद से ज़्यादा चाहें,

या है उनकी छुपी मंशा कोई जिसे ध्यान में रखा जाए।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'लोग परमेश्वर से बहुत अधिक माँगें करते हैं' से रूपांतरित

पिछला: 722 देहधारी परमेश्वर की आज्ञा का पालन करो और पूर्ण हो जाओ

अगला: 724 नवीनतम प्रकाश को स्वीकारना परमेश्वर की आज्ञा मानने की कुंजी है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें