67 जीत का अंतिम चरण है इंसान को बचाने के लिए

1

है आख़िरी चरण जीत का, इंसान को बचाने के लिये,

उसके अंत को ज़ाहिर करने के लिये,

न्याय के ज़रिये उसके पतन का खुलासा करने के लिये।

इस तरह पश्चाताप करने और ऊपर उठने में मदद के लिये,

जीवन और इंसानी ज़िंदगी की सही राह पर चलने के लिये।

है आख़िरी चरण की जीत, बेसुध लोगों के दिलों को जगाने के लिये,

न्याय के ज़रिये उनके विद्रोहीपन को दिखाने के लिये।

अगर नहीं कर पाते पश्चाताप, भ्रष्टता को दर-किनार अब भी,

और नहीं कर पाते हैं इंसानी ज़िंदगी की सही राह का अनुसरण अब भी,

तो बन जाएँगे वो लोग ऐसे, बचाया न जा सकेगा जिन्हें,

शैतान निगल जाएगा जिन्हें।

जीत के मायने हैं इंसान को बचाना, और उसे उसका अंत दिखाना,

अच्छा हो, बुरा हो, बचाया गया हो या अभिशप्त हो,

व्यक्त होता है सबकुछ जीत के काम से।

2

अंत के दिन होते हैं जब जीत के ज़रिये,

वर्गीकरण किया जाता है उनके स्वभाव के अनुसार चीज़ों का।

इंसान को जीतना और उसके पापों का न्याय करना,

काम है ये अंत के दिनों का।

पूरी कायनात में ये वर्गीकृत करता है इंसान को।

पूरी दुनिया के लोगों को जीत के काम से गुज़रना होगा,

न्याय-पीठ के सामने आना होगा।

जीत के मायने हैं इंसान को बचाना, और उसे उसका अंत दिखाना,

अच्छा हो, बुरा हो, बचाया गया हो या अभिशप्त हो,

व्यक्त होता है सबकुछ जीत के काम से।

3

सृजित जीवों का उनके स्वभाव के अनुसार वर्गीकरण होगा।

न्याय-पीठ के सामने उनका न्याय होगा।

न्याय से कोई चीज़, कोई इंसान बच नहीं सकता।

स्वभाव के अनुसार इस वर्गीकरण से कोई चीज़,

कोई इंसान बच नहीं सकता।

सभी छाँटे जाएँगे चूँकि अंत निकट है हर चीज़ का।

तमाम स्वर्ग, धरती तमाम, अपने परिणाम पर पहुँचेंगे।

जीत के मायने हैं इंसान को बचाना, और उसे उसका अंत दिखाना,

अच्छा हो, बुरा हो, बचाया गया हो या अभिशप्त हो,

व्यक्त होता है सबकुछ जीत के काम से।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'विजय के कार्य की आंतरिक सच्चाई (1)' से रूपांतरित

पिछला: 66 अंत के दिनों में विजय-कार्य का सत्य

अगला: 68 परमेश्वर के विजय-कार्य का प्रधान लक्ष्य

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें