552 बचाये जा सकते हो, अगर सत्य को न त्यागो तुम

1

अपनी परेशानियों को ठीक से न समझे इंसान,

तो प्रभावित होगा उसका ईश्वर-ज्ञान।

कुछ को एहसास होता अपनी दुर्बल योग्यता का,

या अपने गंभीर अपराधों का।

तब वे छोड़ देते उम्मीद, मान लेते हैं हार,

सत्य के लिये दुख उठाने को होते नहीं तैयार।

कोशिश नहीं करते बदलने की अपना स्वभाव,

सोचकर कि कभी वो नहीं बदले।

2

बदले तो हैं कुछ लोग मगर, देख नहीं पाते वो ख़ुद इस बदलाव को।

वे बस देखते हैं अपनी परेशानियाँ,

परमेश्वर से सहयोग का संकल्प छोड़ देते वो।

इससे देरी होगी उनके सामान्य प्रवेश में,

बढ़ेगी उनकी भ्रांति परमेश्वर के बारे में।

बल्कि उनकी मंज़िल पर भी पड़ता है इसका असर।

3

कमज़ोर होने पर भी, सत्य-खोजी निभाते हैं फ़र्ज़ निष्ठा से,

सोचते नहीं अपनी नियति के बारे में।

देखती बदलाव मैं, अगर देखो तुम गौर से,

अपनी भ्रष्टता के एक हिस्से को बदला हुआ तुम पाओगे।

मगर मापने के लिये अपने विकास को,

जब प्रयोग करते हो उच्चतम पैमाने तुम,

न सिर्फ़ नाकाम होते हो, पहुँचने में ऊँचाइयों तक,

ख़ुद में आये बदलाव को भी नकारते हो तुम—यही है इंसान की भूल।

अगर तुम सही-गलत में अंतर कर सको,

तो जाँच सकते हो खुद के बदलाव को तुम।

न सिर्फ़ देखोगे अपने बदलाव को तुम,

बल्कि पा लोगे अभ्यास के मार्ग को भी तुम।

जान लोगे, अगर मेहनत करोगे, बचाये जाने की उम्मीद है।

कहती हूँ तुमसे इसी वक्त मैं

देख सकें जो अपनी परेशानियाँ, उम्मीद है उनके लिये,

आ जाएंगे बाहर वे अपनी मायूसियों से।

न त्यागो सत्य को, समझो ख़ुद को सही ढंग से।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'स्वयं को सही ढंग से देखो और सत्य में विश्वास करना बंद मत करो' से रूपांतरित

पिछला: 551 सच का अनुसरण करने के लिए ज़रूरी संकल्प

अगला: 553 परमेश्वर उनका त्याग नहीं करेगा जो निष्ठापूर्वक उसके लिए लालसा रखते हैं

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें