223 सत्य के प्रति तुम्हारा रवैया अति महत्वपूर्ण है

1

निष्ठा तुम्हारी बस वचनों में है,

तुम्हारा ज्ञान बौद्धिक-वैचारिक है,

तुम्हारे श्रम हैं सारे, पाने को आशीष स्वर्ग के।

तो कैसा है विश्वास तुम्हारा?

आज भी करते तुम अनसुना सत्य के हर वचन को।

जो ईश्वर में विश्वास करते चमत्कारों के

कारण वे अवश्य ही नष्ट हो जाएंगे।

जो फिर देह बने यीशु के वचनों को स्वीकार नहीं सकते,

वह यकीनन है संतान नरक की, वंशज प्रधान दूत के,

जो हैं अधीन अनंत विनाश के।

2

तुम ना जानो ईश्वर क्या है, तुम न जानो मसीह क्या है,

कैसे करें आदर यहोवा का, या आत्मा के कार्य में प्रवेश।

तुम न बता सकते फर्क ईश्वर के कार्यों और इंसानी छल में,

पर निंदा करते ईश्वर के सत्यों की, जो अलग है तुम्हारी अपनी सोच से।

कहाँ है तुम्हारी नम्रता? तुम्हारा आज्ञा-पालन और निष्ठा?

तुम्हारी सत्य की चाह? तुम्हारी ईश्वर-श्रद्धा?

जो ईश्वर में विश्वास करते चमत्कारों के

कारण वे अवश्य ही नष्ट हो जाएंगे।

जो फिर देह बने यीशु के वचनों को स्वीकार नहीं सकते,

वह यकीनन है संतान नरक की, वंशज प्रधान दूत के,

जो हैं अधीन अनंत विनाश के।

जो ईश्वर में विश्वास करते चमत्कारों के

कारण वे अवश्य ही नष्ट हो जाएंगे।

जो फिर देह बने यीशु के वचनों को स्वीकार नहीं सकते,

वह यकीनन है संतान नरक की, वंशज प्रधान दूत के,

जो हैं अधीन अनंत विनाश के, विनाश के।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'जब तक तुम यीशु के आध्यात्मिक शरीर को देखोगे, परमेश्वर स्वर्ग और पृथ्वी को नया बना चुका होगा' से रूपांतरित

पिछला: 222 तुम लोगों को सत्य स्वीकार करने वाला बनना चाहिए

अगला: 224 जो सत्य नहीं स्वीकारते वे उद्धार के लायक नहीं हैं

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें