224 जो सत्य नहीं स्वीकारते वे उद्धार के लायक नहीं हैं

1

सत्य और जीवन के वचनों को सुनते हुए,

शायद तुम सोचो कि इन हजारों वचनों में से,

बाइबल और तुम्हारे विचारों से, बस एक ही वचन मेल खाता है,

इस दस हजारवें वचन में खोजते रहो।

परमेश्वर सलाह देता है, विनम्र बनो, न बनो अति-आत्मविश्वासी

स्वयं को ऊँचा न उठाओ।

जो तुम साफ़ कहे गये सत्य को स्वीकार न कर पाओ

तो क्या तुम परमेश्वर के उद्धार के अयोग्य नहीं?

परमेश्वर के सिंहासन के आगे लौट न पाओ,

क्या तुम ऐसे बदकिस्मत नहीं? क्या तुम ऐसे बदकिस्मत नहीं?

2

परमेश्वर के प्रति ऐसी थोड़ी सी श्रद्धा रख कर भी,

तुम पाओगे रोशनी बड़ी, रोशनी बड़ी।

जो इन वचनों पर मनन करोगे,

तुम देख पाओगे कि ये सत्य और जीवन हैं या नहीं।

अंत के दिनों में झूठे मसीहाओं के कारण

आँखें मूंदे परमेश्वर के वचनों की निंदा न करो।

कहीं भटक न जाओ इस डर से, पवित्रात्मा की ईशनिंदा न करो।

3

बहुत खोजने और जाँचने के बाद भी, अगर लगता है तुम्हें अभी भी

कि ये वचन परमेश्वर की अभिव्यक्ति, या सत्य और जीवन नहीं,

तो रहोगे तुम बिन आशीष के, दंडित किये जाओगे निश्चय ही, निश्चय ही।

जो तुम साफ़ कहे गये सत्य को स्वीकार न कर पाओ

तो क्या तुम परमेश्वर के उद्धार के अयोग्य नहीं?

परमेश्वर के सिंहासन के आगे लौट न पाओ, क्या तुम ऐसे बदकिस्मत नहीं?

क्या तुम ऐसे बदकिस्मत नहीं? क्या तुम ऐसे बदकिस्मत नहीं?

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'जब तक तुम यीशु के आध्यात्मिक शरीर को देखोगे, परमेश्वर स्वर्ग और पृथ्वी को नया बना चुका होगा' से रूपांतरित

पिछला: 223 सत्य के प्रति तुम्हारा रवैया अति महत्वपूर्ण है

अगला: 225 यीशु के प्रति फ़रीसियों के विरोध का मूल कारण

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें