221 नया इंसान बनना

1 अतीत में परमेश्वर में अपने विश्वास के बारे में सोचकर, मेरा हृदय कर्ज़ में डूबा महसूस करता है। क्योंकि मैंने सत्य का अनुसरण नहीं किया, मेरे अंदर बहुत से पश्चाताप रह गए हैं। परमेश्‍वर ने मुझे अपना कर्तव्य निभाने के लिए उन्नत किया, लेकिन मैंने उसकी इच्छा पर विचार करना नहीं जाना। मैंने लोगों से सिर्फ़ अपनी तुलना करने के लिए ही काम किया और प्रचार किया। मुझे इसी में आनंद आता था कि लोग मुझे सम्मान से देखें और पूजें। मैंने नाममात्र के लिये परमेश्वर की सेवा की, लेकिन सच्चाई यह है कि मैं खुद को स्थापित कर रहा था। परमेश्वर के वचनों ने मुझे सावधान किया, ख़बरदार किया लेकिन मैंने कोई ध्यान नहीं दिया। बिना झुके, मैं पुरस्कारों, मुकुट के पीछे भागता रहा। मैंने नाम और रुतबे के लिए संघर्ष किया, यह परमेश्वर के लिए बहुत घृणित है।

2 परमेश्वर ने अपना चेहरा छिपा लिया और मैं अंधेरे में जा गिरा जहाँ से मुड़ने का कोई रास्ता न था। मैं एक चलता-फिरती लाश की तरह जीता रहा, जहाँ दिन बरसों की तरह महसूस होते थे। परीक्षणों के बीच, मैंने परमेश्वर के न्याय को स्वीकार कर खुद पर मनन किया। तभी मुझे एहसास हुआ कि मैं था इतना अहंकारी कि विवेक नहीं रहा मुझे। मुझमें नहीं थे सत्य और मैं दिखावा करता था, यह कितना शर्मनाक है! मेरी प्रकृति, प्रधान देवदूत की तरह, परमेश्वर द्वारा शापित की जानी चाहिए। भय से काँपते हुए, मैं बेहद पश्चाताप में परमेश्वर के सामने गिर गया। परमेश्वर के प्रति इतना विद्रोही और उद्दंड, मैं इंसान कैसे कहला सकता हूँ? मैं परमेश्वर के न्याय को स्वीकारना और स्वभाव-संबंधी बदलाव हासिल करना चाहता हूँ।

3 परमेश्वर के न्याय का अनुभव करके, मैंने जाना कि परमेश्वर का स्वभाव धार्मिक है। दिल ही दिल में मैं परमेश्वर के प्रति श्रद्धा और विश्वास रखता हूँ और थोड़ा-बहुत इंसान की तरह जीता हूँ। अब जाकर मैंने जाना कि स्वभाव-संबंधी बदलाव के बिना, मैं परमेश्वर की सेवा करने लायक नहीं हूँ। परमेश्वर के सही समय पर न्याय के लिए मैं उसे धन्यवाद देता हूँ जिसके कारण मैं उसकी सुरक्षा में आया। अब मैंने परमेश्वर के प्रेम का स्वाद चख लिया है, यह बेहद सच्चा और वास्तविक है। हे परमेश्वर, अब मैं कभी तेरे खिलाफ़ विद्रोह नहीं करूँगा, न कभी तेरे दुःख का कारण बनूँगा। बस मैं इन आख़िरी पलों को संजो कर रखना और एक नया इंसान बनना चाहता हूँ, दूसरों से सम्मान खोजने के बजाय, केवल तेरी इच्छा को पूरा करना चाहता हूँ, तेरे वचनों के सहारे जीना, तेरा उत्कर्ष करना और हर चीज़ के लिये तेरी गवाही देना चाहता हूँ।

पिछला: 220 मैं अपने पुराने रास्तों पर लौटकर परमेश्वर को पीड़ा पहुंचाना नहीं चाहूँगा

अगला: 222 मैंने परमेश्वर की मनोहरता देखी है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें