821 अपनी आस्था में परमेश्वर की गवाही कैसे दें

1

ईश-कार्य को देख लेने पर, उसका अनुभव कर लेने पर,

दुखद होगा अंत तक पहुँचना, बिना किए वो काम जो तुम्हें करना चाहिए था।

जब भविष्य में सुसमाचार फैले, तो तुम्हें अपना ज्ञान साझा चाहिए,

दिल में जो पाया उसकी गवाही देनी चाहिए, कोई प्रयास नहीं छोड़ना चाहिए।

किसी सृजित प्राणी को यही हासिल करना चाहिए।

अगर तुम अटल हो ईश्वर का गवाह बनने को,

तो ईश्वर को किससे घृणा, किससे प्रेम है ये तुम्हें समझना होगा।

तुम पर किए उसके काम से तुम्हें उसके स्वभाव को समझना होगा;

उसकी गवाही देने और अपना फ़र्ज़ निभाने के लिए तुम्हें उसकी इच्छा को,

इंसान से उसकी अपेक्षा को समझना होगा।

2

ईश-कार्य के इस चरण का क्या महत्त्व है?

उसके कार्य के क्या प्रभाव हैं? इसमें से कितना किया जाता इंसान पर?

ईश-कार्य में क्या करना चाहिए इंसान को?

जब तुम लोग साफ़-साफ़ बता पाओगे देहधारी ईश्वर के किए सारे कार्य को,

धरती पर आने से लेकर किए गए उसके हर कार्य को,

तब पूरी होगी गवाही तुम लोगों की।

किसी सृजित प्राणी को यही हासिल करना चाहिए।

अगर तुम अटल हो ईश्वर का गवाह बनने को,

तो ईश्वर को किससे घृणा, किससे प्रेम है ये तुम्हें समझना होगा।

तुम पर किए उसके काम से तुम्हें उसके स्वभाव को समझना होगा;

उसकी गवाही देने और अपना फ़र्ज़ निभाने के लिए तुम्हें उसकी इच्छा को,

इंसान से उसकी अपेक्षा को समझना होगा।

जब ये पाँच बातें तुम स्पष्ट बता पाओ:

उसके कार्य का महत्त्व और विषय-वस्तु,

उसके कार्य का सार और सिद्धांत, इसके द्वारा निरूपित उसका स्वभाव,

तब साबित होगा इससे, अब तुम

ईश्वर की सच्ची गवाही देने के काबिल हो, और तुम ज्ञानी हो।

बहुत ऊंची नहीं ईश्वर की अपेक्षाएं तुम सबसे,

पूरी कर सकें वो जो सच में उसका अनुसरण करते।

अगर तुम अटल हो ईश्वर का गवाह बनने को,

तो ईश्वर को किससे घृणा, किससे प्रेम है ये तुम्हें समझना होगा।

तुम पर किए उसके काम से तुम्हें उसके स्वभाव को समझना होगा;

उसकी गवाही देने और अपना फ़र्ज़ निभाने के लिए तुम्हें उसकी इच्छा को,

इंसान से उसकी अपेक्षा को समझना होगा, समझना होगा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'अभ्यास (7)' से रूपांतरित

पिछला: 820 गवाही जो इंसान को देनी चाहिए

अगला: 822 व्यवहारिक परिणाम हासिल करने के लिए परमेश्वर की गवाही कैसे दें

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें