930 परमेश्वर द्वारा निर्धारित नियमों और व्यवस्थाओं में रहती है हर चीज़

1

हज़ारों बरस बाद भी प्रकाश का आनंद लेता है इंसान,

परमेश्वर द्वारा दी गई हवा का आनंद लेता है इंसान।

परमेश्वर स्वयं द्वारा छोड़ी गई साँस में ही अब भी साँस लेता है इंसान।

हाँ, परमेश्वर द्वारा दी गई हवा का आनंद लेता है इंसान।

फूलों, मछलियों, कीट-परिंदों जैसी चीज़ों का अब भी आनंद लेता है इंसान।

परमेश्वर द्वारा रची चीज़ों का आनंद लेता है इंसान।

एक-दूसरे की जगह लेते हैं दिन-रात।

परमेश्वर के दिये चार मौसम, हमेशा की तरह आपस में बदलते रहते हैं।

हर किस्म का जीव जो रहता है दूसरी चीज़ों के संग,

चला जाता है, लौट आता है, फिर चला जाता है।

पलक झपकते ही, लाखों परिवर्तन हो जाते हैं।

मगर उनका सहज-ज्ञान और जीने के नियम हैं जो नहीं बदलते कभी।


2

आसमाँ में उड़ने वाले कलहँस, इस सर्दी में चले जाएँगे,

और अगले बसंत में वे लौटकर फिर आएँगे।

जल की मछलियाँ छोड़ती नहीं कभी झीलें-नदियाँ,

छोड़ती नहीं कभी पानी—ये घर है उनका।

हर तरफ़ शलभ ज़मीं पर, दिल खोलकर गाते हैं।

किस तरह वे काटते हैं गर्मियों के दिन ज़मीं पर,

और घास में झींगुर लहराती हवाओं के संग गुनगुनाते हैं।

ये घास के पतझड़-गीत हैं, सब परमेश्वर ने बनाए हैं।

हर किस्म का जीव जो रहता है दूसरी चीज़ों के संग,

चला जाता है, लौट आता है, फिर चला जाता है।

पलक झपकते ही, लाखों परिवर्तन हो जाते हैं।

मगर उनका सहज-ज्ञान और जीने के नियम हैं जो नहीं बदलते कभी।


3

कलहंस वृन्द में होते इकट्ठे, और बाज़ तन्हाई में रहते हैं।

शिकार करेंगे शेरों के समूह, और इस तरह ख़ुद को ज़िंदा रखेंगे।

बारहसिंघा घास और फूलों से बहुत दूर नहीं जाते हैं।

हर किस्म का जीव जो रहता है दूसरी चीज़ों के संग,

चला जाता है, लौट आता है, फिर चला जाता है।

पलक झपकते ही, लाखों परिवर्तन हो जाते हैं।

मगर उनका सहज-ज्ञान और जीने के नियम हैं जो नहीं बदलते कभी।

उन्हें मुहैया कराता है परमेश्वर, उनकी ज़िंदगी को पोषण देता है परमेश्वर।

इस सहज-ज्ञान को उनके, बदल नहीं सकता कोई,

इन जीवों के जीवन के नियमों में बाधा नहीं डाल सकता कोई।


—वचन, खंड 2, परमेश्वर को जानने के बारे में, स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I से रूपांतरित

पिछला: 929 ये वही इंसान है बनाया था परमेश्वर ने जिसे

अगला: 931 हर चीज़ के प्रबंधन में परमेश्वर के अद्भुत कर्म

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें