929 ये वही इंसान है बनाया था परमेश्वर ने जिसे

1

रौंदा है शैतान ने इंसान को, इंसान को।

नहीं है इंसान अब वो आदम और हव्वा,

हुआ करता था जो सृष्टि की शुरुआत में।

भरपूर है वो धारणा से, कल्पना से, ज्ञान आदि से,

हैं ख़िलाफ़ ये सारी बातें परमेश्वर के, और भरपूर दूषित स्वभाव से।

है मगर इंसान फिर भी वही परमेश्वर की नज़र में, बनाया था जिसे उसने।

है मगर इंसान फिर भी वही परमेश्वर की नज़र में, बनाया था जिसे उसने।

2

अब भी है इंसान पर शासन उसी का,

अब भी है अधीन इंसान परमेश्वर के आयोजन के।

अब भी रहता है इंसान उसी व्यवस्था में जो तय की है परमेश्वर ने।

परमेश्वर की नज़र में, इंसान को बस दूषित किया है शैतान ने, उस शैतान ने।

ढका है महज़ धूल-मिट्टी से वो, जकड़ा हुआ है भूख से, भूख से

है थोड़ा धीमा प्रतिक्रिया में, थोड़ा कमज़ोर याददाश्त में, है थोड़ा-सा बूढ़ा उम्र में।

हैं मगर उसके सारे क्रियाकलाप और सहज-ज्ञान, बिल्कुल पहले जैसे।

बचा लेगा इस इंसान को परमेश्वर। बचा लेगा इस इंसान को परमेश्वर।

3

जब ये इंसान पुकार सुनेगा, रचनाकार की पुकार सुनेगा,

उसकी वाणी सुनेगा, उठेगा और खड़ा होगा वाणी की दिशा ढूंढेगा और दौड़ेगा।

जब ये इंसान परमेश्वर का रूप देखेगा, तो अनदेखा कर देगा, छोड़ देगा सबकुछ,

ख़ुद को परमेश्वर को समर्पित कर देगा,

और परमेश्वर की ख़ातिर अपना जीवन भी त्याग देगा, त्याग देगा।

4

इंसान का दिल जब समझेगा, परमेश्वर के सच्चे वचनों को समझेगा,

तो वो नकार देगा, त्याग देगा शैतान

को और सृष्टिकर्ता के साथ आ खड़ा होगा।

जब वो धूल अपनी झाड़ लेगा, साफ कर लेगा,

और फिर से सृष्टिकर्ता से आपूर्ति, पोषण पाने लगेगा,

तो याददाश्त अपनी बहाल कर लेगा।

फिर वो हकीकत में, सचमुच सृष्टिकर्ता के प्रभुत्व में लौट आएगा।

फिर वो हकीकत में, सचमुच सृष्टिकर्ता के प्रभुत्व में लौट आएगा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I' से रूपांतरित

पिछला: 928 यद्यपि मनुष्य को शैतान ने धोखा देकर भ्रष्ट कर दिया है

अगला: 930 परमेश्वर द्वारा निर्धारित नियमों और व्यवस्थाओं में रहती है हर चीज़

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें