931 हर चीज़ के प्रबंधन में परमेश्वर के अद्भुत कर्म

1

सदियों तक, नन्ही धारा पर्वत की तलहटी के आसपास बहती रही,

पर्वत की बनाई राह पर चल के धीरे से, नन्ही धारा वापस अपने घर पहुँची,

पहले नदी में, फिर सागर में मिली।

पर्वत की देखभाल में, वो धारा गुम न हुई, कभी गुम न हुई, गुम न हुई।

नन्ही धारा और विशाल पर्वत, भरोसा करते थे एक-दूजे पे

काबू में एक-दूजे को रखते थे, एक-दूजे पर निर्भर थे।

2

सदियों तक, तेज़ हवाएँ बदलीं नहीं।

पर्वत पर, गरजती रहीं, पर्वत पर आकर, पहले की तरह,

रेत के बवंडर उड़ाती रहीं, पर्वत को इसने डराया,

मगर चीरकर उसे कभी गुज़री नहीं।

वही रिश्ता कायम रहा उनका, जो पहले से था।

तूफ़ानी हवाएँ और विशाल पर्वत, भरोसा करते थे एक-दूजे पे

काबू में एक-दूजे को रखते थे, एक-दूजे पर निर्भर थे।

3

सदियों तक, विशाल लहर कभी रुकी नहीं,

अपने विस्तार को कभी रोका नहीं।

गरजकर आगे बढ़ती, गरजकर आगे बढ़ती रही।

विशाल पर्वत भी कभी एक इंच भी खिसका नहीं।

पर्वत सागर का ख़याल रखता रहा, ताकि जीव फलें-फूलें महासागर में।

विशाल लहर और विशाल पर्वत, भरोसा करते थे एक-दूजे पे

काबू में एक-दूजे को रखते थे, एक-दूजे पर निर्भर थे।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है VII' से रूपांतरित

पिछला: 930 परमेश्वर द्वारा निर्धारित नियमों और व्यवस्थाओं में रहती है हर चीज़

अगला: 932 परमेश्वर ने स्वर्ग, धरती और सभी चीज़ें इंसान के लिये बनाई हैं

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें