सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

परमेश्वर की जाँच को तुझे हर चीज़ में स्वीकर करना चाहिए

I

डरते हैं अधिकतर लोग आज

अपने कर्मों को लाने में परमेश्वर के सामने।

धोखा दे सकता है तू उसकी देह को,

मगर धोखा नहीं दे सकता तू उसके आत्मा को।

परमेश्वर की जाँच को सह न सके जो,

नहीं है सत्य के अनुरूप वो,

इसलिये कर देना चाहिए दरकिनार उसको।

वरना परमेश्वर के ख़िलाफ़ पाप है वो।

चाहे तू बोले, प्रार्थना करे,

भाई-बहनों से संगति करे,

अपना फ़र्ज़ निभाए या मामले निपटाए,

दिल अपना तू परमेश्वर को समर्पित कर दे।

जब पूरा करता है तू काम अपना, तो साथ होता है परमेश्वर तेरे।

गर तेरा इरादा सही है और परमेश्वर के काम के लिये है,

तो स्वीकार कर लेगा वो सब काम तेरे।

इसलिये कर ईमानदारी से काम अपने।

हर काम, इरादा, प्रतिक्रिया तेरी,

रोज़ाना का आत्मिक जीवन तेरा,

परमेश्वर के वचनों को खाना-पीना तेरा,

सब लाया जाना चाहिये सामने परमेश्वर के।

कलीसिया का जीवन जिस तरह जीता है तू,

साझेदारी में सेवा तेरी,

सब लाया जाना चाहिये सामने, और परमेश्वर की जाँच के लिये,

मदद मिलेगी परिपक्व बनने में इस अभ्यास से तुझे।

II

शुद्धिकरण की विधि है, स्वीकारना परमेश्वर की जाँच को।

अधिक स्वीकारेगा, तू अधिक शुद्ध बनेगा,

और परमेश्वर की इच्छा के अधिक अनुरूप बनेगा।

बुलावा तू विलासिता का, आसक्ति का नहीं सुनेगा,

और दिल तेरा उसकी हाज़िरी में रहेगा।

दिल तेरा उसकी हाज़िरी में रहेगा।

उसकी जाँच को तू जितना स्वीकारेगा,

उतना ही ज़्यादा शैतान शर्मिंदा होगा,

उतना ही ज़्यादा शरीर को तू त्याग सकेगा।

इसलिये, स्वीकार ले परमेश्वर की जाँच को तू।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:सत्य का अभ्यास सुधार सकता है दूषित स्वभाव को

अगला:चाहे जो भी करे परमेश्वर, उसका अंतिम लक्ष्य है उद्धार

शायद आपको पसंद आये