192 परमेश्वर के दोनों देहधारण उसका प्रतिनिधित्व कर सकते हैं

1

जब यीशु आया, वो एक पुरुष था। पर अब ईश्वर स्त्री बनकर आया है।

ईश्वर ने अपने काम के लिए स्त्री-पुरुष दोनों को बनाया,

वो इनमें भेदभाव नहीं करता।

अपने कर्म को बताने, दो बार देह बना परमेश्वर।

अगर इस चरण में वो देह न बनता,

तो इंसान सदा सोचता, ईश्वर तो है पुरुष, स्त्री नहीं।

ईश-कार्य के हर चरण का व्यवहारिक अर्थ है।

जब ईश्वर देह बने, तो स्त्री हो या पुरुष,

दोनों उसके प्रतिनिधि हो सकें, हो सकें।

2

जब यहोवा ने इंसान को बनाया,

तो उसने स्त्री भी बनाई, पुरुष भी बनाया।

इसलिए जब वो देह बनता है, तो दोनों रूपों में आता है।

ईश्वर के दो देहधारण आधारित हैं,

उसकी सोच पर जब उसने पहली बार इंसान बनाए।

उसने किया दो बार देहधारण स्त्री-पुरुष के

उस रूप में जब वो भ्रष्ट नहीं थे।

ईश-कार्य के हर चरण का व्यवहारिक अर्थ है।

जब ईश्वर देह बने, तो स्त्री हो या पुरुष,

दोनों उसके प्रतिनिधि हो सकें, हो सकें।

3

अतीत में नहीं समझे तुम, क्या अब ईश-कार्य की,

विशेषकर उसके देहधारी शरीर की निंदा कर सकते हो तुम?

ज़बान संभालो अगर इसे नहीं समझते तुम,

नहीं तो बेवकूफ़ी आएगी सामने, तुम्हारी कुरूपता उजागर हो जाएगी।

ईश-कार्य के हर चरण का व्यवहारिक अर्थ है।

जब ईश्वर देह बने, तो स्त्री हो या पुरुष,

दोनों उसके प्रतिनिधि हो सकें, हो सकें।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'दो देहधारण पूरा करते हैं देहधारण के मायने' से रूपांतरित

पिछला: 191 परमेश्वर के दोनों देहधारणों का मूल एक ही है

अगला: 193 परमेश्वर सभी को अपना धार्मिक स्वभाव दिखाता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें