861 मानव के लिए परमेश्वर का प्रेम

1

जब ईश्वर आया धरा पर, नहीं था वो इस दुनिया का।

वो दुनिया का आनंद लेने नही आया था।

वो जन्मा वहाँ जहाँ काम करना सबसे सार्थक हो,

और उसके स्वभाव को उजागर करे।

चाहे जगह हो पावन या मैली, वो जहाँ भी काम करे, पवित्र रहे।

दुनिया बनाई उसने, हो गयी ये भ्रष्ट भले,

लेकिन सभी चीज़ें अभी भी हैं उसके हाथ में।

गंदी जगह पैदा होकर भी ईश्वर हीन नहीं है।

ये उसकी महानता और प्रेम दर्शाता है।

जितना वो ऐसे कार्य करता है उतना ही मानव के प्रति,

उसका शुद्ध और दोषरहित प्रेम प्रकट होता है।

2

परमेश्वर एक गंदे देश में कार्य करने आया,

वो अपनी पवित्रता प्रकट करने आया।

अपने कार्य करने और इस देश में लोगों को बचाने के लिए,

वो घोर अपमान सहता है।

गवाही और पूरी मानवता के लिए, वो ऐसा करता है।

ईश-कार्य से सब उसकी धार्मिकता और सर्वोच्चता देखते हैं।

कुछ नीच लोगों के समूह के उद्धार के द्वारा

उसकी महानता और ईमानदारी दिखती है।

गंदी जगह पैदा होकर भी ईश्वर हीन नहीं है।

ये उसकी महानता और प्रेम दर्शाता है।

जितना वो ऐसे कार्य करता है उतना ही मानव के प्रति,

उसका शुद्ध और दोषरहित प्रेम प्रकट होता है।

3

ईश्वर पवित्र, धर्मी है, चाहे पैदा हुआ गंदी भूमि पर,

गंदे लोगों के साथ रहता, जैसे यीशु पापियों के साथ रहा।

क्या उसका सारा कार्य मनुष्य के अस्तित्व के लिए नहीं?

क्या ये सब कुछ मानवजाति के उद्धार के लिए नहीं?

गंदी जगह पैदा होकर भी ईश्वर हीन नहीं है।

ये उसकी महानता और प्रेम दर्शाता है।

जितना वो ऐसे कार्य करता है उतना ही मानव के प्रति,

उसका शुद्ध और दोषरहित प्रेम प्रकट होता है।

गंदी जगह पैदा होकर भी ईश्वर हीन नहीं है।

ये उसकी महानता और प्रेम दर्शाता है।

जितना वो ऐसे कार्य करता है उतना ही मानव के प्रति,

उसका शुद्ध और दोषरहित प्रेम प्रकट होता है।

उसका शुद्ध और दोषरहित प्रेम प्रकट होता है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'मोआब के वंशजों को बचाने का अर्थ' से रूपांतरित

पिछला: 860 इंसान के लिए परमेश्वर का प्रेम सच्चा और असली है

अगला: 862 देहधारी परमेश्वर सबसे प्रिय है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें