862 देहधारी परमेश्वर सबसे प्रिय है

1

परमेश्वर ने देह बनकर, इंसानों के बीच रहकर,

देखी उनकी बुराई, और हालात ज़िंदगी के।

देहधारी परमेश्वर ने महसूस कीं इंसान की मजबूरियां,

इंसान की दयनीयता, इंसान का दुख-दर्द।

देह में परमेश्वर अपने सहज ज्ञान से, हो गया ज़्यादा दयालु

मानव की हालत के लिए, हो गया ज़्यादा चिंतित अपने भक्तों के लिए

अपने भक्तों के लिये। अपने भक्तों के लिये।

2

प्रभु जिनका प्रबंधन करना और जिनको बचाना चाहते हैं,

क्योंकि अपने दिल में वो, उनको बहुत चाहते हैं;

उसके लिए वो ही सबसे ऊपर हैं।

प्रभु ने बड़ी कीमत चुकाई है। कपट भोगा है और चोट खाई है।

मगर हारता नहीं है परमेश्वर, काम करता रहता है निरंतर,

ना कोई शिकवा, ना पछतावा कोई।

देह में परमेश्वर अपने सहज ज्ञान से, हो गया ज़्यादा दयालु

मानव की हालत के लिए, हो गया ज़्यादा चिंतित अपने भक्तों के लिए

अपने भक्तों के लिये। अपने भक्तों के लिये।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III' से रूपांतरित

पिछला: 861 मानव के लिए परमेश्वर का प्रेम

अगला: 863 देहधारी परमेश्वर काफ़ी समय तक मनुष्यों के बीच रहा है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें