860 इंसान के लिए परमेश्वर का प्रेम सच्चा और असली है

इंसान के लिए ईश्वर का प्रेम दिखे देह में किए गए काम में, उसके काम में,

आमने-सामने जीने और बोलने में, बिना किसी दूरी या दिखावे के,

सच्चा और असल रहते हुए खुद इंसान को बचाने में।

1

इंसान को बचाने के लिए ईश्वर देह बना

सालों तक पीड़ा सही इंसानों संग दुनिया में,

बस किया सब इंसान के लिए अपने प्रेम और दया की वजह से।

इंसान के लिए ईश्वर का प्रेम दिखे देह में किए गए काम में, उसके काम में,

आमने-सामने जीने और बोलने में, बिना किसी दूरी या दिखावे के,

सच्चा और असल रहते हुए खुद इंसान को बचाने में।

2

इंसान के लिए ईश्वर के प्रेम की नहीं कोई शर्त या मांग।

उसे क्या मिले उनसे बदले में? लोग उसके प्रति निष्ठुर हैं।

कौन उसे स्वयं परमेश्वर माने?

लोग ईश्वर को कोई सुकून नहीं देते;

उसे अब तक न मिला सच्चा प्रेम इंसान से।

वो तो देता, पूर्ति करता बिना स्वार्थ के।

इंसान के लिए ईश्वर का प्रेम दिखे देह में किए गए काम में, उसके काम में,

आमने-सामने जीने और बोलने में, बिना किसी दूरी या दिखावे के,

सच्चा और असल रहते हुए खुद इंसान को बचाने में।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'क्या तुम मनुष्यजाति के प्रति परमेश्वर का प्रेम जानते हो?' से रूपांतरित

पिछला: 859 परमेश्वर का प्रेम और सार है निस्वार्थ

अगला: 861 मानव के लिए परमेश्वर का प्रेम

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2023 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें