575 परमेश्वर का ध्यान मनुष्य के हृदय पर है

1

जब इंसान स्वीकारे जो परमेश्वर सौंपे,

तो परमेश्वर उसे मानक से नापे,

देखे परमेश्वर कि उसके काम भले या बुरे,

क्या उसकी इच्छा, मान करे उसे संतुष्ट,

क्या उसके कर्म हैं योग्य या नहीं।

परमेश्वर झांके इंसान के दिल में, देखने उसकी आज्ञाकारिता,

परमेश्वर को संतुष्ट करने की इच्छा, दिल में, उनके दिल में।


2

परमेश्वर को परवाह है इंसान के दिल की, न कि ऊपर से किये कामों की।

ज़रूरत नहीं उसे आशीष देने की बस इसलिए कि कोई काम करता है।

और इस तरह लोग परमेश्वर को गलत समझते हैं!

परमेश्वर झांके इंसान के दिल में, देखने उसकी आज्ञाकारिता,

परमेश्वर को संतुष्ट करने की इच्छा, दिल में, दिल में, उनके दिल में।


3

वो बस अंतिम नतीजे न देखे,

उसे तो परवाह है इंसान के दिल की,

और चीज़ों के विकास के समय इंसान के रवैये की, हाँ।

परमेश्वर झांके इंसान के दिल में, देखने उसकी आज्ञाकारिता,

परमेश्वर को संतुष्ट करने की इच्छा, दिल में, दिल में, उनके दिल में।


—वचन, खंड 2, परमेश्वर को जानने के बारे में, परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर I से रूपांतरित

पिछला: 574 अपने कर्तव्य में सत्य का अभ्यास करना ही कुंजी है

अगला: 576 अपना कर्तव्य करने का अर्थ है भरसक प्रयत्न करना

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें