880 घावों से मनुष्य को प्रेम करता है परमेश्वर

1

देहधारी परमेश्वर की होती है आलोचना, निंदा, और उपहास।

शैतान उसका पीछा करते हैं। धार्मिक जगत ने ठुकराया है उसे।

उसकी चोट की भरपाई नहीं कर सकता कोई।

इन्सान द्वारा उग्र विरोध, पीछा करना, लगाना लांछन और झूठे आरोप,

डालते हैं परमेश्वर के देह को खतरे में।

कौन उसके दर्द को समझकर कम कर सकता है?

परमेश्वर धीरज से बचाता भ्रष्ट इन्सान को,

चोट खाए दिल से प्रेम करता है इन्सान को।

सबसे कष्टमय है ये, सबसे कष्टमय काम है ये।

सबसे कष्टमय है ये, सबसे कष्टमय काम है ये।

देह में परमेश्वर के काम की शुरुआत से, प्रेम को उजागर किया गया है।

वो अपना सबकुछ देता है इन्सान को, उसके काम का सार प्रेम है।

2

साढ़े तैंतीस साल तक, यीशु धरा पर रहा,

दर्द से छुटकारा तब तक न पा सका

जब तक क्रूसित हो, फिर से जी न उठा,

और इन्सां के बीच चालीस दिनों तक रहा।

मनुष्य संग जीवन के कठिन साल बीते,

पर मनुष्य की मंज़िल का सोच के,

परमेश्वर का दिल, अब तक वैसे ही झेले।

लोग इस दर्द को जान और सह नहीं सकते, नहीं सकते।

देह में परमेश्वर के काम की शुरुआत से, प्रेम को उजागर किया गया है।

वो अपना सबकुछ देता है इन्सान को, उसके काम का सार प्रेम है।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'मनुष्‍यता के लिए परमेश्‍वर का सच्‍चा प्रेम' से रूपांतरित

पिछला: 879 परमेश्वर ही सबसे ज़्यादा प्यार करता है इंसान को

अगला: 881 बहुत कष्ट उठाता है परमेश्वर इंसान को बचाने के लिये

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें