सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

परमेश्वर ही सबसे ज़्यादा प्यार करता है इंसान को

I

अंत के दिनों में देहधारण करता है परमेश्वर, इंसान को बचाने की ख़ातिर,

क्योंकि इंसान को चाहता है परमेश्वर।

अपने प्यार से प्रेरित होकर, आज का काम करता है वो।

और ये होता है प्यार की बुनियाद पर।

दूषित-बिखरे इंसान को बचाने की ख़ातिर देहधारण करता है,

अपमान सहता है परमेश्वर।

ऐसे दर्द सहता है परमेश्वर।

क्योंकि बारंबार दिखाता है अपना अथाह प्यार परमेश्वर।

उसके वचन ही करते हैं चंगा, दिलाते हैं जोश इंसान को।

करते हैं न्याय, उजागर, वादा और देते हैं शाप इंसान को।

वचन उसके चाहे कुछ भी कहें, मगर आता है सब ये उसके प्यार से।

यही है सार उसके काम का।

क्यों करीब से उसका अनुसरण करते हैं इतने जन?

क्यों ऊर्जा से भरपूर हैं इतने जन?

परमेश्वर का प्यार और उद्धार उन सबने देखा है।

एकदम सही समय चुनता है परमेश्वर। विलम्ब नहीं करता कभी।

हो जाए गुम कोई रूह, नहीं चाहता ये परमेश्वर।

इंसान को परवाह नहीं भविष्य उसका क्या होगा।

इंसान जानता नहीं कैसे संजोये अपने जीवन को।

मगर जानता है परमेश्वर। वो ही चाहता है इंसान को।

II

इंसान को लगता है वो बेहद चाहता है ख़ुद को।

किस तरह का प्यार है ये मगर?

परमेश्वर का प्यार ही सच्चा है तुम्हें अहसास होगा।

गर देहधारण न करता परमेश्वर,

राह न दिखाता, साथ न रहता इंसान के परमेश्वर,

तो परमेश्वर के प्यार को जानना उनके लिये मुश्किल होता।

हो जाए गुम कोई रूह, नहीं चाहता ये परमेश्वर।

इंसान को परवाह नहीं भविष्य उसका क्या होगा।

इंसान जानता नहीं कैसे संजोये अपने जीवन को।

मगर जानता है परमेश्वर। वो ही चाहता है इंसान को।

हाँ, जानता है, परमेश्वर ही चाहता है इंसान को।

परमेश्वर ही चाहता है इंसान को। परमेश्वर ही चाहता है इंसान को।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:आत्मायुक्त प्राणी थे मूल इंसान

अगला:क्या तुम हो अपने लक्ष्य के प्रति आगाह?

शायद आपको पसंद आये