52 ईश्वर हमारे बीच है

हम दुनिया भर से आए हैं;

एक-साथ ईश-भवन में मिलते हैं।

हमें होती ईश-वचन की आपूर्ति

मेमने के विवाह-भोज में शामिल होते हैं हम।

1

अंत के दिनों का मसीह

शैतान से लड़ाई में हमारी अगुआई करता।

राह ऊँची-नीची है

और हम क्लेश झेलते हैं।

ईश-वचनों के मार्गदर्शन से

और हमारे लिए उसके प्रेम के साथ,

हम अँधेरी ताकतों से बाहर निकलते

और अपनी लड़ाई आगे ले जाते।

ईश्वर की शक्ति और बुद्धि देख,

हमारा विश्वास प्रबल होता।

हम ईश्वर की गवाही दे रहे हैं;

देख उसकी मुस्कान हमारे हृदय हर्षित होते।

ईश्वर साथ होने से राज्य में जीवन हर्ष से भरा है।

ईश-प्रेम चुकाने को भारी बोझ उठाएँगे हम।

ईश-वचन पृथ्वी पर फैलाने को,

हम भाई-बहन अपना सब कुछ देते

ईश-इच्छा पूरी करने को, ईश-इच्छा पूरी करने को।

2

सत्य के अनुसरण और शुद्धि के लिए

और ईश-पूर्णता पाने को,

हम न्याय, परीक्षण स्वीकार करते,

स्वीकार करते ईश-वचनों से शुद्धिकरण।

कमजोरी में एक-दूसरे की मदद करते,

और एक-दूसरे को प्रेरित करते।

हम ईश-वचनों को खाने-पीने की

मिठास और हर्ष साझा करते।

समझ हमारी आत्माओं को जोड़े,

हमें और वचनों की ज़रूरत नहीं।

ईश-प्रेम हमें कसकर बाँधता,

उसके वचन हमारे हृदयों को जोड़ते।

ईश्वर साथ होने से राज्य में जीवन हर्ष से भरा है।

ईश-प्रेम चुकाने को भारी बोझ उठाएँगे हम।

ईश-वचन पृथ्वी पर फैलाने को,

हम भाई-बहन अपना सब कुछ देते

ईश-इच्छा पूरी करने को, ईश-इच्छा पूरी करने को।

3

हाथों में हाथ लेकर

हम प्रार्थना करते, एक-दूसरे को बढ़ावा देते।

एक सुंदर कल की ओर ईश्वर अगुआई करता।

हम चाहते ईश्वर से प्रेम करना,

उसकी इच्छा पूरी करना,

सदा-सदा के लिए।

हम ईश-उपदेश मन में रखेंगे

और उसकी गवाही देने में वफ़ादार रहेंगे।

ईश्वर साथ होने से राज्य में जीवन हर्ष से भरा है।

ईश-प्रेम चुकाने को भारी बोझ उठाएँगे हम।

ईश-वचन पृथ्वी पर फैलाने को,

हम भाई-बहन अपना सब कुछ देते

ईश-इच्छा पूरी करने को, ईश-इच्छा पूरी करने को,

ईश-इच्छा पूरी करने को। ईश-इच्छा...

पिछला: 51 परमेश्वर के सामने जीना कितना आनंदमय है

अगला: 53 परमेश्वर के सामने लौट आना सचमुच एक आशीष है

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2023 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें