51 परमेश्वर के सामने जीना कितना आनंदमय है

1

भाइयो और बहनो, कलीसिया में आओ,

ख़ुशी से गाओ, गाओ, गाओ,

परमेश्वर, राजा की स्तुति में झूमो,

झूम के नाचो, नाचो, नाचो।

वो देहधारी हुआ, दुनिया में आया,

सत्य बोलता है वो, हमें बचाने को।

परमेश्वर की वाणी सुनते, उसके सामने उठाये जाते,

खुश हैं हम, खुश हैं हम, खुश हैं हम।

सिंहासन के सामने, भोज में शामिल होते हैं हम,

होते हैं हम होते हैं हम!

परमेश्वर के वचनों का आनंद लेते,

उसके सामने जीते हैं हम।

हँसते-गाते, झूमते हैं हम,

खुशियों का नहीं कोई अंत,

नहीं कोई अंत, नहीं कोई अंत!

2

जब भाई-बहन मिलते हैं,

करीब हम खुद को महसूस करते हैं, करते हैं, करते हैं।

ख़ुशी हमारी बयाँ, कोई शब्द नहीं कर सकते,

हम साथ खुश रहते हैं, रहते हैं, रहते हैं।

परमेश्वर के वचनों की संगति करते,

हम अनुभव साझा करते हैं।

आनन्दित है हमारी आत्मा,

हम सत्य समझते हैं।

न कोई रीति है, न रिवाज है—

सभी मुक्त हैं और आज़ाद हैं!

न कोई रीति है, न रिवाज है—

सभी मुक्त हैं और आज़ाद हैं!

मेमने के भोज में शामिल होते हम,

भव्य है राज्य का जीवन।

परमेश्वर के वचन हमारा न्याय करते, शुद्ध करते,

अब हम बना दिये गये नए।

अपना फ़र्ज़ निभाते,

उसकी इच्छा पूरी करने को मेहनत करते हैं हम।

शांति और आनंद से भर गये, भर गये, भर गये हम।

परमेश्वर के वचनों का आनंद लेते,

उसके सामने जीते हैं हम।

हँसते-गाते, झूमते हैं हम,

खुशियों का नहीं कोई अंत,

नहीं कोई अंत, नहीं कोई अंत!

3

भाइयो बहनो उठो,

आओ मन से एक हो जायें,

इंसानियत का फ़र्ज़ निभाएं।

दें परमेश्वर की गवाही, ऊँचा उसे उठाएं,

कि वो महिमा पाए, पाए, पाए।

ख़ुशी से स्तुति गान करने को,

आओ वाणी ऊँची करें।

भाइयो और बहनो,

ऊँचे स्वर में गाओ, आओ हम स्तुति करें!

परमेश्वर के वचनों का आनंद लेते,

उसके सामने जीते हैं हम।

हँसते-गाते, झूमते हैं हम,

खुशियों का नहीं कोई अंत!

परमेश्वर के वचनों का आनंद लेते,

उसके सामने जीते हैं हम।

हँसते-गाते, झूमते हैं हम,

खुशियों का नहीं कोई अंत,

नहीं कोई अंत, नहीं कोई अंत!

पिछला: 50 परमेश्वर का प्रेम हमें करीब लाता है

अगला: 52 ईश्वर हमारे बीच है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें