957 परमेश्वर इंसान से सच्चे प्रायश्चित की आशा करता है

1

ईश्वर बहुत क्रोधित था नीनवे के लोगों से

जब ऐलान किया उसने तबाह कर देगा वो उनके शहर को।

मगर उपवास घोषित करके, राख मल ली, टाट ओढ़ लिया उन्होंने,

और ईश्वर का दिल पिघल गया, उसका दिल बदल गया।

पाप को स्वीकारने से, प्रायश्चित करने से,

नीनवे के लोगों के लिए ईश्वर का क्रोध करुणा और सब्र में बदल गया।

ईश्वर जब क्रोधित हो इंसान पे,

तो उम्मीद करे उससे सच्चे प्रायश्चित की, तब वो दया करेगा उस पर।

इंसान की बुराई के कारण वो क्रोध करे उसपर।

जो सुनें ईश्वर की बात, करें पश्चाताप, छोड़ें रास्ता बुराई का,

और त्यागें अपनी सारी हिंसा, तो

दया-सहनशीलता दिखाए ईश्वर उन पर।

2

ईश्वर के स्वभाव के इस प्रकाशन में विसंगति नहीं है कोई।

नीनवे के लोगों के प्रायश्चित से पहले और बाद में,

व्यक्त किए ईश्वर ने ये अलग सार; अभिव्यक्त हुआ ईश्वर का सार;

इसलिए देख सकते हैं लोग ईश्वर का सार और उसका खरापन,

कभी अपमानित न किया जा सकने वाला सार।

3

ईश्वर ने अपने रवैये से ये बातें बतायीं इंसान को:

ऐसा नहीं कि ईश्वर नहीं चाहता दया दिखाना,

मगर कुछ लोग ही, सचमुच प्रायश्चित करते हैं

हिंसा की राह छोड़ के, बिरले ही बुराई से मुँह मोड़ते हैं।

नीनवे के लोगों से ईश्वर का बर्ताव दिखाता

पायी जा सकती है करुणा उसकी।

गर प्रायश्चित करे, बुराई छोड़ दे इंसान,

तो बदलेगा उसके प्रति दिल ईश्वर का।

ईश्वर जब क्रोधित हो इंसान पे,

तो उम्मीद करे उससे सच्चे प्रायश्चित की, तब वो दया करेगा उस पर।

इंसान की बुराई के कारण वो क्रोध करे उसपर।

जो सुनें ईश्वर की बात, करें पश्चाताप, छोड़ें रास्ता बुराई का,

और त्यागें अपनी सारी हिंसा, तो

दया-सहनशीलता दिखाए ईश्वर उन पर, उन पर।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है II' से रूपांतरित

पिछला: 956 इंसान के प्रति परमेश्वर का रवैया

अगला: 958 कार्यों के लिए परमेश्वर के सिद्धांत नहीं बदलते

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें