29 मसीह का राज्य साकार हुआ है

I

अंत के दिनों का मसीह बोलता है वचन,

बताए जाते हैं राज्य के रहस्य।

हम सब सुनते हैं परमेश्वर की वाणी

और उसके सिंहासन के समक्ष उठाए जाते हैं।

हम आनन्द लेते हैं सिंचन का।

हम शामिल होते हैं मसीह के विवाह-भोज में,

परमेश्वर के वचनों का पोषण पाते हैं।

आनन्द से प्रफुल्लित होते हैं परमेश्वर के जन।

यहाँ है जीवन्त जल, अनमोल मन्ना।

हम परमेश्वर की जीवन के वचनों का सुखद श्रवण करते हैं।

परमेश्वर कार्य करने को अब प्रकट हुआ है,

मनुष्य के सहस्राब्दियों पुराने सपने को पूरा करता हुआ।

आह, मसीह का राज्य,

मघु और दूघ की भूमि।

आह, मसीह का राज्य,

सच्चे आनन्द और परम सुख की भूमि।

आह, मसीह का राज्य,

मघु और दूघ की भूमि।

आह, मसीह का राज्य,

सच्चे आनन्द और परम सुख की भूमि।


II

सर्वशक्तिमान परमेश्वर सत्य बोलता है,

हम परमेश्वर के राज्य में ले जाए गये हैं।

उसकी कलीसिया मसीह का राज्य है,

पृथ्वी पर परमेश्वर की सत्ता है।

सत्य से प्रेम करने वाले सुनते हैं परमेश्वर की वाणी,

वे उसका चेहरा देखते हैं, उसकी ओर मुड़ते हैं।

और सुखी है

परमेश्वर का एक-एक जन।

मृत सन्त पुनर्जन्म लेते हैं अन्तिम दिनों में।

परमेश्वर से मिलना एक आशीष है।

राज्य के जीवन का आनन्द लेते हुए,

परमेश्वर के लोग उत्साहित होकर गाते हैं।

आह, मसीह का राज्य,

परमेश्वर का स्थान है यहाँ।

आह, मसीह का राज्य,

उसका वादा होता है पूरा।

आह, मसीह का राज्य,

परमेश्वर का स्थान है यहाँ।

आह, मसीह का राज्य,

उसका वादा होता है पूरा।

अँघेरे की शक्तियाँ नष्ट हुईं,

क्योंकि परमेश्वर के वचन सच्चा प्रकाश हैं।

परमेश्वर अपनी वाणी से मनुष्य का,

राष्ट्रों का और प्रजा का न्याय करता है।

परमेश्वर की सभी लोग शुद्ध किए गए हैं।

हम परमेश्वर के पवित्र नाम की स्तुति करते हैं।

हम आनन्दपूर्वक एकत्र होते हैं,

विश्व उत्सव में डूब जाता है।


III

परमेश्वर के लोग शैतान को त्याग देते हैं।

हम सत्य प्राप्त करते हैं और आज़ाद हो जाते हैं।

परमेश्वर के साथ एकत्व

हमें आनन्दित करता और सुख से भर देता है।

बड़ी आपदायें करती हैं नाश,

शैतान की सल्तनत का,

पृथ्वी पर आविर्भूत होता है

न्यायसंगत और धार्मिक साम्राज्य।

आह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर की स्तुति करो,

उसने अपना साम्राज्य हासिल कर लिया है,

उसका आगमन हो चुका है।

आह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर की स्तुति करो,

परमेश्वर का इच्छा पूरी हुई है।

आह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर की स्तुति करो,

उसने अपना साम्राज्य हासिल कर लिया है,

उसका आगमन हो चुका है।

आह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर की स्तुति करो,

परमेश्वर की इच्छा पूरी हुई है।

पिछला: 28 परमेश्वर की स्तुति करने हम खुशी से एकत्रित होते हैं

अगला: 30 सर्वशक्तिमान परमेश्वर का धन्यवाद और यशगान

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें